Saturday, January 23, 2021
Home Blog

जबरदस्त मर्दाना ताकत बढ़ाने और नपुंसकता को ख़त्म करने का रामबाण उपचार क्या है ?

0
https://mumbainews.live/home/
https://mumbainews.live/home/

इस सवाल में आपके दो सवाल छुपे हुए हैं। एक है मर्दाना ताकत और दूसरा नपुंसकता को दूर करना ,तो मैं दोनों के लिए आपको अलग अलग तरह की राय देना चाहता हूं। मर्दाना ताकत को बढ़ाने के लिए कई अचूक उपाय हैं। आजकल कई तरह की दवाईया चली हुई है, लेकिन उनका असर तभी होगा जब आप भी कुछ मेहनत करेंगे।

मर्दाना ताकत पाने के लिए आपको पहले अपने शारीरिक बल पर ध्यान देना चाहिए। अगर आपका शरीर ही कमजोर होगा तो आप चाहे जितनी मर्जी ताकत पा लें। उसका कोई फायदा नहीं। इसलिए मर्दाना ताकत बढाने के लिए आपको अपने शरीर को बल देना चाहिए। आपको रोज व्यायाम करना चाहिए। रनिंग करनी चाहिए ताकि आपका शरीर अच्छे से काम करें। आपके शरीर में फ्लैक्सिबिलिटी अच्छी हो ताकि आप बेड पर अच्छे से परफॉर्म कर पाए।

व्यायाम से आपका मेटाबॉलिज्म सही से काम करता है। आपको भूख लगती है ।

क्या न खाए

तला भुना बाहर का मत खाइए। शराब को ना कहिए। अगर ज्यादा ही पीते हैं तो महीने में एक आद बार पी सकते हैं और धूम्रपान बिलकुल छोड़ दीजिए। यह चीजें करने से आपको बहुत ज्यादा फर्क दिखाई देगा।

आयुर्वदिक जड़ी बूटिया

अब बात करते हैं कुछ आयुर्वेदिक दवाइयों की ।आप शिलाजीत, अश्वगंधा, शतावर इन तीनों के मिश्रण का सेवन कर सकते हैं। आप इन तीनों को अलग-अलग भी इस्तेमाल कर सकते हैं या फिर इन तीनों से बनी हुई चीजें बाजार में मिल जाती है। डाबर ,झंडू इत्यादि की अछि मिल जाती हैं, आप इस्तेमाल कर सकते हैं।

अब बात करते हैं नपुंसकता को दूर कैसे किया जाए

दोस्तों नपुंसकता भी तभी आती है जब आपके शरीर में ब्लड सरकुलेशन सही ना हो। तो ब्लड सरकुलेशन को सही करने के लिए आप व्यायाम कीजिए।

खून के दौरे को बढ़ाने के लिए आप l-arginine का सेवन कर सकते हैं। arginine नहीं लेना चाहते तो आप शिलाजीत का सेवन कर सकते हैं। यह आपके खून का दौरा बढ़ाएगी और आपको काफी ज्यादा फायदा मिलेगा। यह चीजें आप दो महीना करके देखिए, आपको बहुत ज्यादा फायदा मिलेगा।

तुर्की में ऐसा क्या मिला है जो विश्व के कुछ देशों की जीडीपी के बराबर है ?

0
https://mumbainews.live/home/

तुर्की के एक शहर में 99 टन सोना मिला है जिसकी कीमत 6 अरब डॉलर लगाई जा रही है। देश के ऊर्जा और प्राकृतिक संसाधन मंत्री का कहना है कि सरकार का लक्ष्य अगले पांच साल में सोने का उत्पादन 100 टन करना है।

अंकारा
तुर्की के एक शहर में उर्वरक बनाने वाली एक कंपनी के हाथ खजाना लगा है। यहां सोने का विशाल भंडार मिला है। स्टेट न्यूज एजेंसी की रिपोर्ट के मुताबिक करीब 6 अरब डॉलर की कीमत का 99 टन सोना यहां पाया गया है। सोगूट शहर में अग्रीकल्चरल क्रेडिट कोऑपरेटिव और गूब्रेटस उर्वरक उत्पादन कंपनी चलाने वाले फाहरेतीन पोयराज ने इस बात की जानकारी दी है।

उन्होंने बताया है कि खजाने की कीमत 6 अरब डॉलर हो सकती है। दो साल के अंदर यहां से सोने का खनन शुरू कर दिया जाएगा और तुर्की की अर्थव्यवस्था को मजबूती दी जाएगी। जानकारी मिलने के साथ ही गुब्रेटस के शेयर्स में 10% बढ़ोतरी दर्ज की गई।

पोयराज ने बताया कि उनकी उर्वरक कंपनी ने साइट को साल 2019 में कोर्ट के फैसले के बाद एक कंपनी से हासिल किया था। अब वह इस खोज पर खुद ही काम करेंगे। ऊर्जा और प्राकृतिक संसाधन मंत्री फेथ डॉनमेज ने बताया कि सितंबर में तुर्की ने 38 टन सोने का उत्पादन करके रेकॉर्ड तोड़ दिया था। अगले पांच साल में सोने के सालाना उत्पादन को 100 टन पहुंचाने का लक्ष्य बनाया गया है।

तुर्की के शहर में मिला 99 टन सोना, कीमत कम से कम 6 अरब डॉलर

Prathmesh Parab’s Marathi Movie Oh my ghost’s teaser  is out

0
my ghost’s teaser
my ghost’s teaser

Prathmesh Parab’s Marathi Movie Oh my ghost’s teaser  is out

The teaser  of the upcoming Marathi comedy genre film Oh my ghost is out. The promo has all the elements of a horror comedy from wicked laughter to flickering lights. Under the banner of Jumping Tomato marketing pvt ltd in association with filmotion pictures, produced by Sana Wasim Khan and Rohandeep Singh, the film is all set to release in the theatre on 12th February, 2021.
https://mumbainews.live/home/
https://mumbainews.live/home/

Wasim Khan is the director and cinematographer of the film. Mohsin Chavada is the writer, dialogues by Mohsin Chavada and additional dialogue writer Nikhil Lohe. Actions by Haneef Sheikh. Music and singing by Rohit Raut, Art direction by Khusboo Kumaari and background score by Satya, Manik and Afsar.The film is starring Prathmesh Parab, Kajal Sharma, Pankaj Vishnu, Kurus Deboo, Prem Gadhavi, Dipali Patil and Apoorva Deshpande in the lead roles. The film had been shot at Aurangabad, Maharashtra.

Oh My Ghost is a comedy genre Marathi film in which an orphan young man Jaggu, who considered himself a loser and failure, suddenly starts seeing deads. He believes himself to be unfortunate and after all these, his life becomes more chaotic.Jaggu for whom life is a burden now faces a new challenge to deal with the ghosts. He applies many tricks to get rid of these ghosts and while doing so he realizes the other perspective to live life which changes his outlook towards life.

Richa Chadha learns to ride a bike for the movie ‘Madam Chief Minister’

0
https://mumbainews.live/home/
https://mumbainews.live/home/

Richa Chadha learns to ride a bike for the movie ‘Madam Chief Minister’

Richa Chadha starrer Madam Chief Minister is a story of a young woman’s journey and growth in the world of politics, a leader like never seen before. The gut shaking political drama is written & directed by Subhash Kapoor, the film also features talented actors like Saurabh Shukla, Manav Kaul, Akshay Oberoi and Shubhrajyoti.

Here’s a video of Richa Chadha learning to ride a bike as per the film’s requirement, the actor seems to enjoy this experience and is clearly seen in the video.

https://mumbainews.live/home/
https://mumbainews.live/home/
Sharing her experience of riding a bike Richa adds, “It’s really fun to learn how to ride a bike, we are starting with activa and slowly we will move on to a real bike. But I have got a lot of confidence and thrill, I think I have got a really good teacher too”.

A Kangra Talkies production, written & directed by Subhash Kapoor, produced by Bhushan Kumar, Krishan Kumar, Naren Kumar & Dimple Kharbanda is set to release in cinemas on 22nd January 2021

रिटर्न टिकट  का टीज़र पोस्टर  लाँच 

0
https://mumbainews.live

रिटर्न टिकट  का टीज़र पोस्टर  लाँच 

 मुंबई : कहते हैं कि किये  हुए कर्मो का फल मिलता हैं लेकिन अगर किसी का किया कर्म ३० सालो के बाद उसके सामने आ जाए तो क्या होगा। फिल्म रिटर्न टिकट  का कांसेप्ट भी इस कहानी के केंद्र में हैं।  लेखक प्रत्यूष द्विवेदी   और निर्देशक  निशांत जीके रंजन की फिल्म रिटर्न टिकट  में ३० सालो की जर्नी में कई किरदार है जो अपने एक ऐसी घटना के समाने आने पर नयी परिस्थितियों का सामना करते हैं।  रिटर्न टिकट आफ़्टर थर्टी  ईयर  का टीज़र  पोस्टर मुंबई में लांच किय गया इस अवसर पर अरबाज खान, अध्ययन सुमन , गुरलीन चोपड़ा , देव शर्मा , रुशलान मुमताज़ , अमित जे , फिल्म के सह कलाकार नीलम गुप्ता , असीमा भट्ट, निर्देशक निशांत जीके रंजन लेखक प्रत्यूष द्विवेदी  के साथ ही स्कॉय नाईन  ओटीटी के राकेश भदौरिया भी उपस्थित थे।

Amit J , Rushlan Mumtaz, Dev Sharma, Arbaaz Khan, Nishant GK Ranjan, Adhayayan Suman, Gurleen CHopra
https://mumbainews.live

ओम श्री एंटरटेनमेंट एंड रियलिटी द्वारा निर्मित, शीश चित्र  एंटरटेनमेंट और निशांत वुड, राज्ञी  फिल्मस   के बैनर तले  रिटर्न टिकट  निशांत जीके रंजन द्वारा निर्देशित है और प्रत्यूष द्रिवेदी  और निशांत द्वारा लिखित है।  गुरलीन चोपड़ा, देव शर्मा, श्वेता  तिवारी, अध्ययन  सुमन, मुग्दा गोडसे, आसिफ तांबे, अमित जे शर्मा, नीलम गुप्ता, रुशलान  मुमताज, असीमा भट्ट, राजकपूर साही, अश्विनी कृष्णा , पंकज झा और विक्रम गोखले हैं।

इस अवसर पर अभिनेता अरबाज खान ने कहा कि जब निर्देशक निशांत ने मुझे कहानी और फिल्म का कैरेक्टर सुनाया, तो मुझे लगा कि यह बलात्कार-पीड़ित को न्याय देने का एक अवसर है। फिल्म की पेशकश की, मैंने इसे स्वीकार कर लिया। हमने अक्सर सुना है कि बलात्कार पीड़िता को न्याय नहीं मिलता है और उन्हें समाज में अपराधी माना जाता है, इसलिए यह फिल्म और चरित्र समाज को जगाने में मददगार होगी। मैं उत्साहित हूं इस फिल्म के किरदार में मैं ३० साल की जर्नी तय करता हूँ , यह बहुत एक्सपेरिमेंटल हैं मैं इस फिल्म के लिए बहुत उत्साहित हूँ ।

इस अवसर पर निर्देशक निशांत जी.के. रंजन ने कहा कि फिल्म के कहानी पिछले दस सालो से मेरे अंदर चल रही थी मैं फिल्म के सभी किरदारों को महसूस किया हैं।  यह फिल्म एक सामाजिक बुराई की तरफ ध्यान आकर्षित करती है तो साथ ही एक अच्छा सामजिक सन्देश भी देती हैं। मेरी पूरी टीम  और  साथ ही कास्टिंग डायरेक्टर चिराग खान  ने इस फिल्म के लिए एक मल्टीकास्ट प्रतिभाशाली एक्टर्स को एक साथ लेकर आये हैं फिल्म में तीस साल की जर्नी दिखाई गयी है जिसमे आपको सभी किरदारों के अलग अलग लुक दिखने को मिलेंगे।  फिल्म के ओटीटी पार्टनर स्काय नाईन  हैं.
फिल्म रिटर्न टिकट  की शूटिंग फरवरी महीने में शुरू  होगी फिल्म के क्रिएटिव प्रोडयूसर अमित वर्मा , को-प्रोडूसर शॉन  पुण्डरी , कास्टिंग डॉयरेक्टर चिराग खान , एक्जीक्यूटिव प्रोड्यूसर दीपक प्रजापत क्रिएटिव डॉयरेक्टर नितीश श्रीवास्तव और  अंकित आनंद , सिनेमाटोग्राफर महेश आने , म्यूजिक डॉयरेक्टर एंड्रिन अल्बरीचट फर्नान्डो नॉरिएगा कॉस्ट्यूम गुंजन मोहन और  एडिटर धर्मेश पटेल हैं।

ध्यान करने के परिणामों को महसूस करने में कितना समय लगता है ? Meditation effects

0
https://mumbainews.live/home/
https://mumbainews.live/home/

सर्वप्रथम यह अंग्रेजी शब्द मैडिटेशन मुझे सार्थक नहीं लगता है क्यूंकि शब्द की व्यापकता ही नहीं रहती, चलो इस पर कभी और सही बहस |

आपका ध्यान आपके प्राणायाम पर निर्भर करता है तो जितना सिद्ध आप अपने प्राणायाम में होते जाएंगे उतनी ही शीघ्रता से आपके बन्ध और चक्र खुलते जाएंगे | प्रत्येक साधक को चाहिए की कम से कम सोलह प्राणायाम क्रियाएं करे जिसमें की पूरक, कुम्भक और रेचक सम्मिलित हैं | यह सर्वप्रथम आपकी शुषुम्ना को सक्रिय करेगा मतलब आपकी प्राणवायु आपके इंगला-पिंगला नाड़ी से होकर शुष्मना में प्रवेश का द्वार बनाएगी और यह शुषुम्ना आपके आज्ञाचक्र को सक्रिय कर देता है |

Pic by Google.

बहुत अच्छा होगा की प्राणायाम के साथ जप भी चलता रहे क्यूंकि दोनों एक दूसरे के पूरक हैं यानी की प्राणायाम एक शारीरिक क्रिया है और जप मानसिक | जब दोनों एकाकार होगा तो आपकी साधना एक संतुलन में रहेगी और आगे का मार्ग प्रशस्त बना रहेगा | दिन में चार बार यह जरुरी बताया गया है लेकिन आज के समय अगर आप सुबह-शाम २ घण्टे भी निकाल लेते हैं तो काफी रहेगा |

अब आते हैं ध्यान के परिणामों पर तो यह सबसे पहले आपकी नाड़ियों की शुद्धि होगी और अशुद्धियाँ छंटने लगेंगी, भय कम होने लगेगा, सत्य तत्व का आभास होने लगेगा, आपका शरीर सुगठित होना शुरू हो जायेगा, एक सुगंध का एहसास होने लगेगा, स्वाँस सधने लगेगी और धीमे-धीमे चलेगी जो की एक अच्छा लक्षण होगा, कोई भी शारीरिक दिक्कत या बीमारी आपको होगी तो आपको उसका कारन स्वयं ज्ञात होने लगेगा वैसे तो बीमार कम ही पड़ोगे, यह आपके प्राणायाम, ध्यान के आरंभिक लक्षण हैं और जैसे जैसे आपकी साधना अधिक परिपक्व होने लगेगी तब आपकी सर्वप्रथम वायु सिद्धि होगी | जब आप यहाँ तक पहुँच जाएं तो आगे के चरण स्वतः के जानने के लिए होते हैं केवल, यह रहस्य की तरह अपने तक रहने दो |

एक बात तो मैं यहाँ कहूंगा की जब मेरी आवाज परम-ब्रह्म तक नहीं पहुँच रही थी तो मैं समझ गया की कुछ गड़बड़ है दया ? आखिर मुझे कैसे पता चले की मेरा भोले मुझे सुन रहा है ? उस दिन से मेरी यात्रा शुरू हुई और एकमात्र उद्देश्य था अपनी प्रार्थना उन तक पहुँचाना बस और कुछ नहीं | मैंने उसको ध्यान किया और अब मैं उसमें घुलता – मिलता जा रहा हूँ लेकिन परिणाम कहीं भी, कभी भी नहीं सोंचा, वह अपने आप घटित होने लगा |

तो महाराज बस ध्यान करो परिणाम को सोंचना छोड़ दो | एक बात और की धूनी रमा कर बैठने से पहले या किसी सिद्धासन पर बैठने से पहले खुद को उसमें रमा दो, उठते-बैठते, खाते -पीते उसको ही सोंचो जैसे एक प्रेमी अपनी प्रेमिका को इतनी सिद्दत से सोंचता है |

Meditation effects

शुक्रिया, धन्यवाद !
ॐ नमः शिवाय !

कुंडलिनी योग इतना खतरनाक क्यों है ? kundalini yog

0
https://mumbainews.live/
https://mumbainews.live/

किसी भी शक्ति को बिना सामर्थ्य व जानकारी के उपयोग में लाओगे तो झटका लगेगा ही। बिना इलेक्ट्रीशियन की जानकारी के बिजली के तारों से आये दिन छेड़छाड़ करोगे करंट लगने की पूरी संभावना रहेगी। इसलिए शीघ्र अतिशीघ्र श्री कुंडलिनी शक्ति के जागरण का प्रयास शारिरिक, मानसिक और चारित्रिक क्षमता न होने पर विपरीत प्रभाव डाल सकता है। जो वस्तु जितनी जल्दी और शॉर्टकट तरीक़े से प्राप्त की जाती है उतनी ही जल्दी विलुप्त भी हो जाती है या उपयोगी नहीं रहती। इसलिए धैर्य और उचित मार्ग द्वारा शनै शनै प्राप्त करी सामर्थ्य देर तक औऱ मजबूती से टिकती है, फलती फूलती है।

इसलिए श्री कुंडलिनी शक्ति को हल्के में नहीं लेना चाहिये कि साहब कितने दिन में जाग्रत हो जायेंगी।

शैव और शाक्त उपासकों में श्री कुण्डलिनी शक्ति को आदर के साथ मातृवत अम्बा के समान संबोधित किया जाता है, यहाँ तक कि सामान्य बोलचाल की भाषा में भी आदर के साथ इंगित किया जाता है।

उच्च कोटि के संतों जैसे ज्ञानगंज के स्वामी श्री विशुद्धानन्द सरस्वती जी, श्री नीम करौली बाबा जी, श्री विद्या में सिद्ध श्री जितेंद्र चंद्र भारतीय जी की राय है कि अच्छे कर्म करने से, दीन जनों को भोजन कराने से तथा नित्य अपने इष्ट मन्त्र या भगवान के नाम, गुरु मंत्र के नियत समय और नियत आसन पर बैठ कर 30 मिनट से 1 घंटे तक शांत भाव से श्रद्धा,भावपूर्वक जप करने से श्री कुण्डलिनी शक्ति धीरे धीरे आवश्यक शारीरिक और मानसिक सामर्थ्य पैदा कर बिना किसी नुकसान के जागृत होने लगती है। यह सहज और सरल मार्ग है।

kundalini yog

जोड़ो में चिकनाई बड़ाने के लिए क्या खाना चाहिए ? Joint pain

0
mumbainews.live

“Synovial fluid” जिसे हम आम भाषा में घुटनों की चिकनाई या ग्रीस भी कहते हैं जो दो हड्डियों के बीच में लुब्रिकेशन बनाए रखता जिससे कि कार्टिलेज पर दबाव नहीं पड़ता है। घुटनों में चिकनाई कम होने की समस्या पहले अधिकतर बुजुर्गों में देखने को मिलता था किंतु आज कल यह समस्या बहुत ही आम हो गई है और बहुत से नौजवान भी इससे पीड़ित है। इस समस्या के कारण वश लोगों का चलना फिरना सीढ़ियां इत्यादि चढ़ना बहुत है कठिन और पीड़ादायक होने लगता है।

तो आइए आज बात करते हैं इस समस्या के कारण और समाधान पर।

कारण:- घुटनों में चिकनाई कम होने के कई कारण हो सकते हैं जैसे कि खड़े होकर पानी पीना ,फास्ट फूड का अत्यधिक सेवन, बहुत लंबे समय तक खड़े होकर काम करना, व्यायाम ना करना, तनाव चोट लगना, वजन अधिक होना इत्यादि।

समाधान:- अगर बात करें समाधान की तो सरल उपायों को अपनाकर इस समस्या से पूर्णतया छुटकारा पाया जा सकता है।

*. ध्यान देने वाली बात यह है यह समस्या तभी उत्पन्न होती है जब आपके शरीर में पोषक तत्वों की कमी है इसीलिए आपको फास्ट फूड त्याग कर पोषक तत्वों से परिपूर्ण भोजन करना होगा।

*. अखरोट बादाम मुनक्का इत्यादि का सेवन बहुत ही लाभकारी है। रात में भिगोकर सुबह इसका सेवन करें।

*. नारियल पानी का सेवन अगर आप करते हैं तो आपको इस तरह की समस्या कभी होगी ही नहीं क्योंकि यह विटामिन मिनरल्स और अन्य कई पोषक तत्व जैसे कि मैग्नीज से भरपूर होता है अतः हो सके तू नारियल पानी अथवा गरी नारियल का सेवन भी कर सकते है।

*. आपको अपनी दिनचर्या में व्यायाम और योगासन को सम्मिलित करना होगा अगर आपकी उम्र अधिक है तो आप योगासन ना कर व्यायाम ही करें।

*. धतूरे के बीज को अगर सरसों के तेल में पकाकर मालिश करें तो यह ना सिर्फ जोड़ों की समस्या बल्कि शरीर में अन्य कहीं भी होने वाले दर्द में लाभकारी है। यह उपाय मेरी मां खुद किया करती है और यह बहुत ही कारगर है।

Joint pain

धन्यवाद, Pic credit: Google images.

 

मर्दाना ताकत लंबे समय तक संरक्षित कैसे रखें ? Health power

0
mumbainews.live
mumbainews.live

मर्दाना ताकत लंबे समय तक ! Health power

लेकिन कितने लंबे समय तक यदि यह पूछा जाए कि अगर आप मर्दाना ताकत बढ़ाना चाहते हैं वह भी लंबे समय तक लेकिन कितने लंबे समय तक 50 साल 60 साल या 70 साल तक तो यह कहना थोड़ा मुश्किल है,

तो चलिए बात कर लेते हैं कि मर्दाना ताकत आप ज्यादा से ज्यादा लंबे समय तक बढना चाहते हैं तो इसके लिए आपको लंबे समय तक स्वस्थ भी रहना होगा। लंबे समय तक एक्टिव रहना होगा। लंबे समय तक आपका लाइफस्टाइल भी अच्छा होना चाहिए। जिसकी शुरुआत आपको आज से करनी होगी।

मान लीजिए। आज आपकी उम्र 25 से 30 साल है या फिर 35 साल तक है तो आप आज से ही अपनी दिनचर्या में सुधार लाइए।

चलिए बात करते हैं कि कैसे कैसे सुधार आपको लाने पड़ेंगे?

एक्टिव रहिये

अपने आप को एक्टिव रखिए जिम जॉइन करें ,वर्कआउट करें। अगर आप जिम नहीं जा सकते तो घर में थोड़ा-बहुत व्यायाम कीजिए। साइकिलिंग कीजिए। अगर साइकिलिंग भी नहीं कर सकते तो,थोड़े बहुत जोगिंग ही कर सकते हैं। इसी से आपका काफी काम हो जाएगा।

खानपान

अपने खानपान पर पूरी नजर रखें क्योंकि आप जो खाएंगे उसका असर आपकी पूरी बॉडी पर होगा। इसलिए ना ज्यादा तला हुआ खाए ,ना ज्यादा मीठा खाए और ना ही ज्यादा नमक खाए, इसलिए संतुलित आहार लें।

संतुलित आहार का मतलब है जिसमें मैक्रो न्यूट्रिएंट्स और माइक्रो न्यूट्रिएंट्स दोनों एक समान हो। प्रोटीन कार्बोहाइड्रेट फैट यह हमारे लिए बहुत ज्यादा जरूरी है। हमारे भारत में प्रोटीन की मात्रा बहुत कम खाई जाती है। इसलिए प्रोटीन की मात्रा ज्यादा से ज्यादा खाए रोज कम से कम तीन से चार अंडे जरूर खाएं।

और दूध अच्छी मात्रा में पिए, ड्राई फ्रूट वगैरह को अपनी डाइट में ऐड करें और मौसमी का फल खाने कभी मत भूलियेगा।

आयुर्वेद

कई बार हमें काम से बहुत ज्यादा स्ट्रेस वगैरह रहता है तो इसलिए हमें कुछ चीजों का सेवन करना चाहिए। कुछ आयुर्वेदिक चीजें भी बहुत अच्छी है जो हमें अच्छा असर दिखाती है और आज से नहीं बहुत समय से इस्तेमाल की जा रही हैं, जिनमें से अश्वगंधा ,शिलाजीत, सफेद मूसली ,शतावरी का सेवन भी कर सकते हैं।

चाहे रेगुलर इस्तेमाल ना करें, लेकिन सर्दी में इस्तेमाल कर सकते हैं। अश्वगंधा आपके स्ट्रेस को कम करेगी। शिलाजीत में आयरन पाया जाता है,फुलविक एसिड पाया जाता है जो कि शरीर में आयरन की मात्रा को ठीक रखता है। संतुलित रखता है। शतावर और सफेद मुसली यौन इच्छा बढ़ाता है और यौनशक्ति सही रखता है।

गलत काम छोड़ दें

आजकल मोबाइल आने की वजह से हम लोग काफी ज्यादा मोबाइल में ही महफूज रहते हैं और मोबाइल में कई तरह की गलत चीजें देखने लगते हैं जैसे कि पोर्न वगैरा तो पोर्न से दूर रहें।

यह तीन चार काम आप कर लीजिए और आपकी मर्दाना ताकत काफी लंबे समय तक बनी रहेगी।

फ़ोटो:गूगल सोर्स:Shatavari ke Fayde Mardo ke liye : Shatavar

क्या आप चाय बनाने के बाद बची हुई चाय पत्ती के फायदे जानते हैं ? Tea Usages

0
mumbainews.live

लोग चाय बनाने के बाद बची हुई चाय पत्ती को बेकार समझकर अक्सर कूड़ेदान में फेंक देते हैं। वह इसके फायदों के बारे नहीं जानते। आप इसे सुखाकर दोबारा इस्तेमाल में ला सकते हैं। आओ जानते हैं इसके फायदों के बारे में:-

यह चायपत्ती का पानी एक तरह से प्राकृतिक कंडिशनर का काम करता है। इस चाय पत्ती को दुबारा से गर्म पानी में उबाल लें और इसे छान लें। पानी को ठंडा करने के बाद बालों को धोएं। इससे

बाल बहुत सुंदर और चमकदार बन जाते हैं। इसका नियमित प्रयोग करने से बालों में प्राकृतिक चमक आती है।

इस चाय पत्ती का इस्तेमाल छोले को स्वादिष्ट बनाने के लिए किया जा सकता है। इसके लिए चाय पत्ती को पानी में उबाल कर उसकी थोड़ी-सी मात्रा काबुली चने में डाल दें। इससे छोले का रंग आकर्षित दिखेगा और खुशबू और स्वाद भी अच्छा हो आएगा।

इस चाय पत्ती को पानी में उबालकर इस पानी का कुल्ला करने से दांत दर्द में राहत मिलती है और दांत भी चमकदार बनते हैं।

गर्मियों के दिनों में जूते पहनने के बाद पैरों में बदबू आने लगती है। इस समस्या से छुटकारा पाने के लिए इस चाय पत्ती के पानी में अपनें पैरों को कुछ देर तक डुबोकर रखें, ऐसा करने से पैरों की बदबू दूर हो जाएगी।

इस चाय पत्ती के उबले हुए पानी से घी या तेल के डिब्बे साफ करने से उन डिब्बों की दुर्गंध दूर हो जाती है और डिब्बे अच्छी तरह से साफ भी हो जाते हैं।

किचन में मक्खियां को भगाने के लिए उस जगह को इस पानी से साफ करें और अच्छी तरह से रगड़े।

इस बची हुई चाय पत्ती में पानी डालकर दोबारा गर्म करें। इस पानी से लकड़ी के फर्नीचर को चमकदार बनाने के लिए इस्तेमाल किया जा सकता है।

चायपत्ती का इस्तेमाल खाद के रूप में किया जाता है। गमले में पौधों को समय-समय पर खाद की जरूरत होती है। ऐसे में आप बची हुई चाय पत्ती को साफ कर लें और गमले में डाल दें। इससे पौधे स्वस्थ रहेंगे।

चाय पत्ती में एंटी-ऑक्सीडेंट गुण पाए जाते हैं। उबली हुई चाय पत्ती को अच्छी तरह धो लें और इसे पीसकर चोट पर लगाने से घाव जल्दी भर जाते है।

बची चाय पत्ती में थोड़ा-सा विम पाउडर मिलाकर क्राकरी को साफ करने से उसमें चमक आ जाती है।

स्त्रोत— चित्र गूगल और बची हुई चायपत्ती के फायदे।

Tea Usages

Flim Peter- emotional story – Trailer launched

0
https://mumbainews.live/
https://mumbainews.live/

 

Peter- emotional story of a 10 years old boy  and a baby goat  , Trailer launched

Mumbai: Trailer of Marathi film Peter An emotional story of a 10 years old boy Dhanya and a baby goat  launched at Mumbai suburban in presence of cast and crew. Under the banner of  Aanandi Enterprise and Jumping Tomato Marketing pvt ltd in association with the Seven Colours Cinevision,the film Peter is directed by Amol Arvind Bhave. Alongwith the trailer, the songs were also released with the live performance by singer Saee Joshi.The event was followed by media interaction.

The producer-cum-director Amol Arvind Bhave, along with other producers Dipankar Ramteke and Rohandeep Singh were present at the event. The star cast Prem Borhade, Manisha Bhor, Amol Pansare, Vinietaa Sancheti and Siddheshwar Siddhesh were also present at the event along with musician Shree Gurunath Shree, Singer Saee Joshi and lyricist Rangnath Gajre.

https://mumbainews.live/
https://mumbainews.live/

Saee Joshi Nishani Borule पीटर ट्रेलर लॉंच Peter(Poster) (1) Amol Arvind Bhave Peter copy (1) ट्रेलर लाँच पीटर
Peter is an emotional story of a 10 year old boy Dhanya and a baby-goat. The innocent friendship between these two is heart-touching. Dhanya’s

Amol Pritam Bhave

grandfather took Dhanya’s uncle to Godman because their have been 5 years Dhanya’s uncle’s were was not having kid. Godman says them that   sacrifice the goat to lord sonoba. Due to this Dhanya’s father and his uncle start searching for the goat but due to village fair, all the goats had been scarified and after searching in other four villages then also they couldn’t find any the goat. After searching this much in front of one house they saw one baby goat who’s mother was beaten by the snake and she has been dead and that baby goat was too small for the sacrifice. So they planed to sacrifice that baby goat after raising it for 5-6 months and they bring that baby goat to their home  the raising of the baby goat comes to Dhanya who gladly accept it and treat that baby goat as his brother. Dhanya was called spiderman by everyone due to this his school friends start calling goat as “Peter”.The affection between Dhanya and Peter grew day by day and Dhanya’s mother was watching this as Peter was also growing up day by day this made Dhanya’s mother to worry about Peter and the sacrifice day came, Dhanya’s mother started to refuse but then also they scarified the Peter and after seeing all this Dhanya goes in shock. But soon Dhanya’s all family members comes to know that his uncle and aunt will never have a kid as his aunt was taking contraceptive pills. And then they come to know that the Godman was false in all this Peter had to sacrifice his life and Dhanya was alive but he was seems to be dead.To cure Dhanya his mother starts efforting.

Watch it in theatre on 22nd January, 2021 to know what happens to the baby-goat. Has Dhanya’s mother’s efforts succeeded? Is Dhanya got cured? Zee music has released the music of the film.

On the occasion Amol Arvind Bhave quoted Peter as an emotional film. The relationship between a young boy and a baby-goat has been beautifully shown on the screen. Animals built up the bonding very innocently. I am really grateful to the cast and crew for the fabulous job. Such amazing stories and performances will lead the Marathi film industry to the great heights. With the green signal from the government authority we are releasing the film on 22nd January.

Cast and Crew. film peter, Amol Arvind Bhave, Dipankar Ramteke, Rohandeep Singh , Prem Borhade,
Manisha Bhor, Amol Pansare,  Vinietaa Sancheti, Siddheshwar Siddhesh, Shree Gurunath Shree,  Saee Joshi , Rangnath Gajre,

राज प्रीतम मोरे की शार्ट फिल्म खीसा (पॉकेट) भारत के ५१ अंतर्राष्ट्रीय फिल्म महोत्सव में की जायेगी प्रदर्शित

0
https://mumbainews.live/
https://mumbainews.live/

राज प्रीतम मोरे की शार्ट फिल्म खीसा (पॉकेट) भारत के ५१ अंतर्राष्ट्रीय फिल्म महोत्सव में की जायेगी प्रदर्शित

निर्देशक राज मोरे की शार्ट फिल्म खीसा (पॉकेट ) भारत के ५१ अंतर्राष्ट्रीय फिल्म महोत्सव  के लिए चयनित

मुंबई :
 निर्देशक राज प्रीतम मोरे की मराठी शार्ट फिल्म खीसा (पॉकेट ) का इंडियन पैनोरोमा , इफ्फ़ी , गोवा में प्रदर्शन के लिए आधिकारिक चयन किया गया हैं। भारत का  ५१वां अंतर्राष्ट्रीय  फिल्म महोत्सव १६  से २४ जनवरी २०२१ गोवा में आयोजित किया जा रहा हैं ,जिसमे देश विदेश की कई फिल्मो का प्रदर्शन किया जाएगा।
पी पी सिने प्रॉडक्शन , मुंबई लालटिप्पा फिल्मस के बैनर टेल निर्मित फिल्म खीसा (पॉकेट ) के  निर्माता संतोष मैथानी और राज प्रीतम मोरे हैं।  फिल्म को अकोला ( विदर्भ ), महाराष्ट्र के विभिन्न लोकेशंस पर  फिल्माया गया हैं।

https://mumbainews.live/
https://mumbainews.live/

खीसा (पॉकेट )  महाराष्ट्र के एक गांव में रहने वाले लड़के की कहानी हैं जो एक दिन तय करता हैकि उसके स्कुल की शर्ट में एक बड़ा पॉकेट  बनाएगा जिसमे वह अपनी कीमती और प्यारी वस्तुएँ जैसे सिक्के , फूलों की पत्तियाँ , कंचे रखेगा।  एक ऐसा खिसा जिस पर हमेशा उसे गर्व रहे। इस खीसा के चलते वह खास बन जाता है उससे उम्र में बड़ो से भी ख़ास बना देता हैं क्योंकि बाकी लोगो  का खीसा छोटा , साधारण और एक जैसा दिखने वाला हैं।  खीसा (पॉकेट ) के छोटे बड़े होने से समाज में फैले  प्रतीकात्मक राजनीति छोटे से बच्चे के समझ के परे हैं जल्द ही पुरे गाँव में यह खीसा एक विवाद का केंद्र बन जाता हैं।

निर्देशक राज प्रीतम मोरे फिल्म खीसा (पॉकेट ) के साथ निर्देशन की शुरुवात कर रहे हैं और उनकी पहली शार्ट फिल्म को राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय फिल्म महोत्सवों में कई नामांकन , पुरस्कार और दर्शकों का प्रतिसाद मिला हैं।

इस अवसर पर निर्देशक राज प्रीतम मोरे ने कहा कि खिसा आज के पीढ़ी के बीच से मासूमियत की कहानी हैं। यह एक बहुत ही दुःख की बात है लेकिन यह आज सच्चाई  हैं खीसा (पॉकेट ) एक लड़के की दिल को छूने वाली कहानी है जो निश्चित रूप से दर्शकों को जीवन के प्रति एक अलग दृष्टिकोण देगी। आज मराठी फिल्में हर दिन नई ऊँचाइयों पर पहुंच रही हैं। मराठी कंटेंट न केवल देश में बल्कि पूरी दुनिया में अपनी पहचान बना रहा है। 15 मिनट  अवधि की यह फिल्म सभी के दिल में जगह बनाएगी।
खीसा ( पॉकेट ) को इंस्तांबुल फिल्म अवॉर्डस  २०२० में सर्वश्रेष्ठ फिल्म और सर्वश्रेष्ठ स्क्रीनप्ले का अवार्ड मिला हैं। भारत के प्रतिष्ठित १०वे दादासाहेब फ़ाल्के फ़िल्म महोत्सव दिल्ली में  सर्वश्रेष्ठ स्क्रीनप्ले का पुरस्कार मिला हैं  मार्च २०२१, टर्की ,इंस्तांबुल  में आयोजित होने  वाले गोल्डन स्टार अवार्ड्स में आयएफ़ए के  वार्षिक लाइव स्क्रीनिंग गाला में भी प्रदर्शित की जायेगी।
फिल्म को डबलिन अंतर्राष्ट्रीय शार्ट एंड म्यूजिक फ़ेस्टिवल २०२० में सर्वश्रेष्ठ अंतराष्ट्रीय शार्ट फ़िल्म और सर्वश्रेष्ठ निर्देशक के लिए नामाँकित भी किया गया। खीसा (पॉकेट ) का पहला ऑनलाइन अंतराष्ट्रीय प्रीमियर भी डबलिन अंतर्राष्ट्रीय शार्ट एंड म्यूजिक फ़ेस्टिवल २०२० में किया गया।खीसा (पॉकेट ) को मुंबई अंतर्राष्ट्रीय कल्ट फिल्म फ़ेस्टिवल में सर्वश्रेष्ठ नवोदित निर्देशक और सर्वश्रेष्ठ सहायक अभिनेता  ( स्पेशल ज्यूरी मेंशन ) का पुरस्कार कैलाश वाघमारे को दिया गया। खीसा को  मॉन्ट्रियल इंडिपैंडेंट फिल्म महोत्सव कनाडा और २६ वे कलकत्ता अंतरराष्ट्रीय फिल्म महोत्सव में भी प्रदर्शन के लिए आधिकारिक नामांकित की गयी अन्य प्रमुख नामांकन और पुरस्कारों में  डायोरमा इंटरनेशनल फिल्म फ़ेस्टिवल २०२० , सिंगापुर इंटरनेशनल फिल्म फ़ेस्टिवल २०२० , जयपुर इंटरनेशनल फिल्म फ़ेस्टिवल  के साथ ही डायोरमा इंडी शार्ट फिल्म फ़ेस्टिवल अर्जेंटीना २०२० में भी आधिकारिक नामांकन और प्रदर्शित की गयी हैं
खीसा (पॉकेट) को कैलाश वाघमारे ने लिखा हैं फिल्म के कैमरामैन सिमरजीत सिंह सुमन , संगीतकार पारिजात चक्रवर्ती , साउंड रिकॉर्डिस्ट कुशल सारदा और एडिटर संतोष मैथानी हैं फिल्म में प्रमुख भूमिकाओं में कैलाश वाघमारे ,  मीनाक्षी राठौड़ , श्रुति मध्यादीप  डॉ. शेषपाल गणवीर और वेदांत श्रीसागर ( बाल कलाकार ) नजर आएंगे।

Raj More Khisa (Short film),making its way at Indian Panorama 2020, 51st IFFI.

0
https://mumbainews.live/
https://mumbainews.live/

Raj More Khisa (Short film),making its way at Indian Panorama 2020, 51st IFFI.

Mumbai,  : India’s Marathi short film”Khisa”(Pocket) is now making its way to India after acclaimed so many international awards. ”Khisa”short film Officially Selected in Indian Panorama for  51st International film festival of India, Goa 2021.
The short film is Directed by Raj More. Under the Banner of PP Cine Production Mumbai and Laaltippa Films , Movie Khisa is Produced by Santosh Maithani and i and Raj More. The film has been shot at  Akola ( Vidarbha).Khisa is the story of a young boy who lives in a remote village in Maharashtra. He decides to get a large pocket stitched for his school shirt, in which he keeps all his precious belongings – petals, coins, marble balls; A pocket, he is proud of. It sets him apart from others his age, whose pockets are not only smaller in comparison but also ordinary and similar to each other in appearance.The little boy does not understand the politics of symbolism that adults engage in, and his pocket soon becomes a point of contention amongst elders in the village .

https://mumbainews.live/
https://mumbainews.live/
Khisa is the directorial debut of the director Raj More   which has got so many international awards, nominations and official selection. He quoted  Khisa is the story of the loss of innocence and coming-of-age of a young boy, is ironically symbolic of the times we live in. Khisa is a heart touching tale of a boy which will definitely give the audience a different perspective.He further said that Marathi movies are reaching new heights every day. Marathi content is making its marks not only in the country but all over the world.This 15 minute film will make a place in everyone’s heart.
From early this short film ”Khisa” won 2 Awards at the Istanbul Film Awards 2020.Best Film and Best Screenplay, 2 award international awards and in India very prestigious Screenplay Awards at 10th Dada Saheb Phalke Film Festival,New Delhi .India -20 .Khisa also qualifies to compete for the prestigious Golden star Awards at the annual live screening gala of IFA,which will be held in Istanbul,Turkey in March 2021.

Also got a nomination for Best international Short Film and Best Director at Dublin International short and music festival 2020.Khisa also shown at world’s premier online screening at (DISFMF) Dublin International short and music festival 20.

Khisa  got  2 prestigious awards at  Mumbai International cult Film Festival. BEST DEBUT DIRECTOR (MICFF GOLD)(Raj Pritam More and BEST ACTOR IN SUPPORTING ROLE (SPECIAL JURY MENTION) TO KAILASH WAGHMARE . And it’s also Official selection at Montreal Independent Film Festival Canada 2020 and  26th (KIFF) Kolkata International Film Festival 20. Official Selection at Dioroma International film festival  2020. Official Selection at (Jiff) Jaipur international film festival 2020. Official Selection at Singapore international film festival 2020.
It’s also Official Selection at Dioroma Indie Shorts Awards Buenos Aires, Argentina 2020.

”Khisa”  is also selected at  Dharamshala International Film Festival  and set to world premiere at the prestigious Dharamshala International Film Festival in between 28th Oct to 4th Nov 2020.Due to the going novel coronavirus pandemic,the festival would be held online.
Written by Kailash Waghmare ,Short film editor Santosh Maithani,Director of Photography Simarjit Singh Suman,Music by Parijat Chakraborty,Sound recordist by Kushal Sarda.Kailash Waghmare,Meenakshi Rathod,Shruti Madhydeep ,Dr Sheshpal Ganvir and Vedant Shrisagar (child actor) are in the lead roles.

Actress Shikha Malhotra becomes Volini’s brand ambassador

0
https://mumbainews.live/
https://mumbainews.live/

Actress Shikha Malhotra becomes Volini’s brand ambassador
                                                                                                                           Mumbai : The film Kanchali, FAN and Running Shaadi fame actress Shikha Malhotra has been appointed by the country’s leading healthcare brand Sun Pharma as the brand ambassador for its popular pain killer product, Volini. In addition to acting, being a qualified nursing officer Shikha Malhotra had volunteered to work as a nurse amid the coronavirus outbreak. She had served as a frontline warrior and taken care of Corona patients as a nurse. This noble deed had got a lot of headlines in the media for her social and humanitarian service, Maharashtra Chief Minister Uddhav Thackeray, actress Katrina Kaif, Sonu Sood , Shatrughan Sinha as well as NITI Aayog had highly praised her. While taking care of Corona patients, Shikha Malhotra was also hit by this global pandemic.


Shikha Malhotra has been appointed as Volini’s brand ambassador for two years. Before few days, popular advertisement film director, Kopal Nathani shot an ad film for the Volini Real Heroes series, which is being currently aired on a number of News channel and entertainment TV channels. The ad has been released in Hindi, English, Marathi, Gujrati, Telugu, Tamil , Kannad, Malyalam as well as in many other languages.

On this achievement, Shikha Malhotra said that I am very happy to join a trusted brand like Volini. There is a confidence in Volini’s immediate relief from pain for decades, I will promote this legacy. Hopefully people will like the brand’s new campaign.

The commercial is produced by Samson Vasave of Superfly Films, Creative Agency is Lowe Lintas and directed by Director Kopal Nathani.

Prathamesh Parab’s “Oh My Ghosts” in theatre on 12th Feb 2021

0
https://mumbainews.live/
https://mumbainews.live/

Prathamesh Parab’s “Oh My Ghosts” in theatre on 12th Feb 2021

Mumbai : Jumping Tomato marketing pvt ltd  in association with filmotion pictures, producer Sana Wasim Khan and Rohandeep Singh are coming up with a comedy genre Marathi film Oh My Ghosts.The film is all set to release in the theatre on 12th February , 2021.

Wasim Khan is the director and cinematographer  of the film. Mohsin Chavada is the writer , dialogues by Mohsin chavada and additional dialogue writer Nikhil Lohe. actions by Haneef Sheikh.Music  and singing by Rohit Raut ,Art direction by Khusboo Kumaari and background score by Satya ,Manik and Afsar.The film is starring Prathmesh Parab, Kajal Sharma, Pankaj Vishnu,Kurus Deboo, Prem Gadhavi, Dipali Patil and Apoorva Deshpande in the lead roles.the film had been shot at Aurangabad, Maharashtra.

https://mumbainews.live/
https://mumbainews.live/

Oh My Ghost is a comedy genre Marathi film in which an orphan young man Jaggu who considered himself a loser and failure ,suddenly starts seeing deads. He  believes himself to be  unfortunate and after  all these, his life become more chaotic.Jaggu for whom life is a burden now faces a new challenge to dealt with the ghosts.He applies many tricks to get rid of these ghosts  and while doing so he realizes the other perspective to live life which  changes his outlook towards the life.

Mumbai, 29th Dec 2020 :Jumping Tomato marketing pvt ltd  in association with filmotion pictures, producer Sana Wasim Khan and Rohandeep Singh are coming up with a comedy genre Marathi film Oh My Ghosts.The film is all set to release in the theatre on 12th February ,2021.
Wasim Khan is the director and cinematographer  of the film. Mohsin Chavada is the writer , dialogues by mohsin chavada and additional dialogue writer Nikhil Lohe. actions by Haneef Sheikh.Music  and singing by Rohit Raut ,Art direction by Khusboo Kumaari and background score by Satya ,Manik and Afsar.The film is starring Prathmesh Parab, Kajal Sharma, Pankaj Vishnu,Kurus Deboo, Prem Gadhavi, Dipali Patil and Apoorva Deshpande in the lead roles.the film had been shot at Aurangabad, Maharashtra.
Oh My Ghost is a comedy genre Marathi film in which an orphan young man Jaggu who considered himself a loser and failure ,suddenly starts seeing deads. He  believes himself to be  unfortunate and after  all these, his life become more chaotic.Jaggu for whom life is a burden now faces a new challenge to dealt with the ghosts.He applies many tricks to get rid of these ghosts  and while doing so he realizes the other perspective to live life which  changes his outlook towards the life.

अंधश्रद्धे मुळे बळी गेलेल्या मित्राची भावनीक गोष्ट म्हणजे ” पिटर ” हा चित्रपट 22 जानेवारी 2020 रोजी संपूर्ण महाराष्ट्रात प्रदर्शित होतोय .

0
https://mumbainews.live/
https://mumbainews.live/
“आनंदी  इंटरप्रायझेस ” ची ही पाहिली निर्मिती असून हिंदी इंडस्ट्री मधील नामांकित निर्मिती संस्था आणी डिस्ट्रुबिशन कंपनी  “जम्पिंग टोमॅटो मार्केटिंग प्रायव्हेट लिमिटेड ”

” हा चित्रपट प्रेझेंट करत आहे . याचे निर्माते अमोल अरविंद भावे आहेत यांनी अत्ता प्रयन्त 7 चित्रपटांचे लेखन , दिग्दर्शन केले असून 45 tv मालिकांचे देखील दिग्दर्शन , लेखन केले आहे त्यांच्या बरोबर दिप्पांकर रामटेके आणी रोहनदीप सिंग हे या चित्रपटाचे सहनिर्माते आहेत . तसेच या चित्रपटाला सुरेल संगीत ”  श्री गुरुनाथ श्री ” या संगीतकाराने दिले असून गीत लेखनाची जबाबदारी रंगनाथ गजरे , विष्णू थोरे यांनी पार पाडली आहे ही सुंदर गाणी सई जोशी व ज्ञानेश्वर मेश्राम या गोड गळ्याच्या  गायकांनी गायली आहेत .
https://mumbainews.live/
https://mumbainews.live/

या चित्रपटाचे छायाचित्रण साऊथ चे प्रसिद्ध सिनेमोटोग्राफर अमोश पुटीयाथील यांनी केले आहे . चित्रपटाचे लेखन राजेश भालेराव , संकलन किशोर नामदेव , कला दिग्दर्शन रमेश कांबळे , साऊंड ऋषिकेश मोरे , नृत्य दिग्दर्शक नील कामळे , निर्मिती प्रबंधक भक्ती वरणकर , रंगभूषा आरती बोरसे , वेशभूषा मिलन देसाई , सहायक दिग्दर्शक योगेश मोटे , सुरज मरचंडे , सुरज  पानकडे , सुरज पांचाळ , कलाकार प्रेम बोराडे , मनीषा भोर , सुरेश ढगे , अमोल पानसरे , विनिता संचेती , सिद्धेश सिध्देश्वर , शरद राजगुरू , प्रमेय वाबळे , उमेश पांढरे , मल्हारी ठिकेकर यांनी काम केले आहे . चावंड गावच्या निसर्गरम्य गावात या चित्रपटाचे चित्रीकरण झाले आहे . मनोरंजन करता करता अंधश्रद्धेवर प्रकाश टाकणारा हा भावनिक सिनेमा शेवटी प्रेक्षकांना सिनेमातून मांडलेल्या मुद्यावर विचार करायला लावेल अशी दिग्दर्शक अमोल भावे यांना आशा आहे तेव्हा जास्तीत जास्त प्रेक्षकांनी चित्रपटगृहात येऊन हा चित्रपट पहावा .

Jamtada: Thus a factory of fraud

0

Jamtada is a district in the state of Jharkhand. Social reformer and writer Ishwar Chandra Vidyasagar had spent the last 18 years of his life in Nandan Kanan in the district. But that Jamtada is now famous not for the social reformer but for a different reason.

The Naxal-affected district has become the largest haunt of cyber thieves in the country. Unemployed people in the area engage in online fraud. There are a large number of cyber crime complaints.

Due to the high crime rate, Jamtada district has gained a strange reputation as a cyber crime hub. The village is home to more than 50 per cent of India’s cyber crimes. Such a shocking revelation was made by former Union Home Secretary Rajiv Gauba.

During 2010, the youth of this village got fed up with unemployment and started these scams for money. He moved to cities and got jobs in companies like call centers. There he learned about hacking, phone calls as well as online transactions and taught it to others.

Thus a factory of fraud has been set up here. The task of these criminals is to do a simple but skillful job. Bank account holder information is obtained from private entities that sell data.

The process of calling account holders starts from the SIM obtained through fake ID. Claiming to be a bank official, the thieves tell the customer that the account has been hacked. Debit or credit card numbers ask for all the details like CCV, OTP.

The frightened account holder reveals all the details. Then with the help of another accomplice, the thieves immediately transfer the money to their e-wallet. The account holder is poor until the phone is cut off.

Even if a big fish gets stuck in their throat during the day, they become silver. Retired Chief Justice R. M. Lodha and actor Amitabh Bachchan have also fallen victim to these thieves. It is a special case that this Shakkal, which makes full use of technology, is being used in the villages.

Young people sit under mobile towers in the fields, forests and just call all day. In some villages even electricity is not available. The thieves have set up a generator to charge your phone and laptop. Initially, the prevalence of phone fraud was high in Hindi-speaking states.

Citizens are being repeatedly instructed by the police in this regard. So the thieves are now learning the regional language and trying to trick people in other states. In the last few years, many people have been robbed of millions by these thieves.

If you think you are lying, go to Jamtada village and see the bungalows of those people. In 2018, Jamtada police arrested 111 people in 89 cases. Also, 109 people have been arrested in 67 cases in 2019 and 72 cyber thieves in 39 cases till March 2020.

Many of the thieves who escaped for lack of evidence are still harassing people. A police investigation has revealed that the detainees have unaccounted assets. Hundreds of vehicles, laptops, mobiles and SIM cards have been seized from them.

He even had a webseries on him. Whose name is Jamtada: Everyone’s number will come. Tell us how you felt about this article and if you liked it, don’t forget to forward it.

This 54-YO Pune Company May Bring Oxford’s COVID-19 Vaccine to India

0

Mumbai:  The world’s largest vaccine manufacturer, Pune-based Serum Institute of India (SII), is likely to manufacture  the COVISHLD’ (SII-ChAdOx1 nCoV-19) vaccine developed by developed by Oxford University’s Jenner Institute. The Drugs Controller General of India has given the SII a nod to conduct phase 2 and 3 human trials in 1,600 healthy volunteers in the country. The trials will be a randomized controlled study that aims to determine the safety and immunogenicity of the vaccine.

“As per the study design, each subject will be administered two doses four weeks apart (first dose on day one and second dose on day 29) following which the safety and immunogenicity will be assessed at predefined intervals,” an official told Press Trust of India.

The highly anticipated trial results for the COVID-19 vaccine, which is licensed to the multinational pharmaceutical company AstraZeneca, are out. Phase-1 and Phase-2 trials showed no adverse side-effects and generated an immune response among health participants.

“Both Phase 1 and 2 show encouraging results but do not give any indication on how successful they will be in the real world. A single shot gave a perfect immune response in healthy adults, and there is no need for any concern regarding serious adverse effects. As for India, this can be said after we do the trials on a large scale, covering both genders and different age groups. The process can take up to six months,” Dr Giridhara R Babu tells The Better India. He is the professor and Head of Lifecourse Epidemiology department at the Indian Institute of Public Health in Bengaluru.

Currently, Oxford and AstraZeneca have begun multiple phases trials in South Africa, the UK and Brazil. This phase will assess how the vaccine performs in large diversified groups over the age of 18 and study its efficacy in protecting people from becoming infected with COVID-19.

Happy with the promising results shown by the Oxford developed-vaccine, the SII aims to apply for its manufacturing license.

“The trials have shown promising results, and we are extremely happy about it. We will be applying for the licensure trials to the Indian regulator in a week’s time. As soon as they grant us permission, we will begin with the trials for the vaccine in India. In addition, we will soon start manufacturing the vaccine in large volumes,” SII Chief Executive Officer Adar Poonawalla said.

IIT Kharagpur’s Low Cost Rapid Testing Tech Can Detect COVID-19 Within 1 hour

0
https://mumbainews.live/
https://mumbainews.live/

The global toll of confirmed cases of COVID-19 has crossed the 16 million mark and more than 6.5 lakh people have succumbed to this deadly virus, which shows no signs of slowing down. While widespread testing is the key to help communities quickly identify infected people, isolate them, and trace their contacts, the tests can take up to 24-hours to deliver results. In rural areas, where lab facilities are not readily available, the lab results are time-consuming and sometimes even inaccurate.

To save the valuable time lost in testing, the Indian Institute of Technology, Kharagpur has launched a first-of-its-kind COVID-19 Rapid Testing Device which can deliver results within 1 hour.

COVID-19 Rapid Testing Device

The researchers specify that this is not a kit but a replacement for the RT-PCR machine.

How does it work?

Professor Suman Chakraborthy, Department of Mechanical Engineering, IIT Kharagpur, tells The Better India (TBI), “This 1ft x1ft low-cost portable enclosure is an alternative technology to the Reverse Transcription polymerase chain reaction (RT PCR) machine used to detect the novel coronavirus. The technology works on the principles of microfluidics. Once the oral swabs are inserted into the machine, it produces a simple paper-strip used to run the chemical analysis. Once the chemical analysis is complete, the same unit will produce the results on a smartphone-based application.”

He also says that the same portable unit can be used for a large number of tests, on mere replacement of the paper cartridge and chemicals used for analysis after each test.

Where can it be installed?

The machine can be used anywhere and is designed to be deployed at rural locations with extremely poor resources. The test does not need laboratory facilities to analyse results, and it can be handled by anyone, even someone who has no technical knowledge. It has been proven to produce no false results with remarkable accuracy at par with RT-PCR tests.

“The machine accepts both nasopharyngeal and oral swabs, and within 1 hour the results can be sent to the patient’s phone in a dedicated app and also as a message. Since the device does not have any complicated elements that need handling, the work can be carried out by inexperienced technicians. But, it is important for them to wear necessary protective gear,” says Professor Suman.

While RT PCR testing methods require human intervention to derive test results, this device automatically delivers test results through an application.

Cost of the COVID-19 test

While the device is priced at Rs. 2000, one test is priced at Rs. 400 including the swab test and the final results.

To test the accuracy of the device, the team created synthetic RNA, a replica of the viral RNA extracted from infected patients, and tested them on RT PCR machines, to check if the results matched.

“We did not have access to patient samples, so we replicated the RNA sequences and till date, 500 tests have been analysed using the low-cost device. All their results were similar to what was on the RT PCR machine. Apart from that, this device can also be used to detect other respiratory diseases such as influenza. Only the chemical reagent will need to be replaced,” says Professor Arindam Mondal, Assistant Professor, School of BioScience IIT Kharagpur, a lead researcher in the project.

During a virtual press-meet conducted by IIT Kharagpur, the researchers of the project claimed that unless there is affordable infrastructure, the price of Covid-19 tests will always remain high.

They also plan to commercialise the patented technology, so that the devices can be manufactured by private organisations, and reach larger masses.

The team has approached ICMR and other government bodies to begin tests with samples from patients.

मेट्रो रेल सेवा 15 अक्टूबर से शुरू होगी?

0

मुंबई। महाराष्ट्र सरकार ने कोरोना वायरस (कोविड-19) महामारी के बीच नया दिशा निर्देश बुधवार को जारी करते हुए कहा कि मेट्रो रेल सेवा 15 अक्टूबर से शुरू होगी।

सरकार ने इसके साथ ही, सरकारी और निजी पुस्तकालयों को खोलने की भी अनुमति दी है। इसके साथ ही साप्ताहिक बाजार भी खुलेंगे तथा अब सुबह नौ बजे से रात 9 बजे तक दुकानें खुल सकेंगी।

मिशन बिगिन अगेन के तहत प्रदेश के स्कूलों में 15 अक्टूबर से 50 प्रतिशत शिक्षकों और गैर शिक्षकों की उपस्थिति की अनुमति दी गई है। सरकार ने 31 अक्टूबर तक हालांकि सभी स्कूलों को बंद रखने का फैसला किया गया है। लेकिन ऑनलाइन शिक्षा जारी रहेगी।

स्कूल शिक्षा विभाग द्वारा इसके लिए स्वास्थ्य और सुरक्षा संबंधी सावधानियों के बारे में एसओपी जारी किया जाएगा।

उन्होंने कहा कि महाराष्ट्र में भी दिल्ली की तर्ज पर ही मेट्रो रेल के संचालन के नियमों का पालन किया जाएगा। मेट्रो रेल के संचालन के दौरान सामाजिक दूरी, सेनिटाइजेशन समेत नियमों का पूरा ध्यान रखना होगा।

राज्य में कोरोना के 8522 नये मरीज मिलने से कोरोना संक्रमिताें की कुल संख्या 1543837 तक पहुंच

गयी। तथा 187 अन्य मरीजों की मृत्यु के साथ अब तक मरने वालों की कुल संख्या 40701 हो चुकी है। राज्य में आज 15356 मरीजों को ठीक होने के बाद उन्हें अस्पताल से छुट्टी दे दी गयी। इसके साथ ही अब तक स्वस्थ्य होने वाले मरीजों की संख्या 1297252 तक पहुंच गयी। वर्तमान में राज्य में 205415 मरीज उपचाराधीन हैं।

TPR टेलीविजन रेटिंग पॉइंट पर अस्थायी तौर पर रोक ?

0

 

टेलीविजन रेटिंग पॉइंट पर अस्थायी तौर पर रोक

ब्रॉडकास्ट ऑडियंस रिसर्च काउंसिल ने टेलीविजन रेटिंग पॉइंट पर अस्थायी तौर पर रोक लगा दी है। यह रोक अगले आठ से बारह हफ्ते के लिए हो सकती है। काउंसिल की तकनीकी कमेटी जारी करने की पूरी प्रोसेस का रिव्यू करेगी और वेलिडेशन के बाद ही दोबारा इसे शुरू किया जाएगा।

ब्रॉडकास्ट ऑडियंस रिसर्च काउंसिल इंडिया बोर्ड के चेयरमैन पुनीत गोयनका ने कहा कि मौजूदा हालात को देखते हुए यह फैसला बेहद जरूरी था। बोर्ड का मानना है कि ब्रॉडकास्ट ऑडियंस रिसर्च काउंसिल को अपने कड़े प्रोटोकॉल का रिव्यू करना चाहिए। इस दिशा में सकारात्मक कदम उठाने चाहिए, ताकि फर्जी टीआरपी जैसी घटनाएं फिर सामने न आएं।

ब्रॉडकास्ट ऑडियंस रिसर्च काउंसिल के सीईओ सुनील लुल्ला ने कहा, ‘‘हम ब्रॉडकास्ट ऑडियंस रिसर्च काउंसिल में अपनी भूमिका को पूरी ईमानदारी और लगन से निभाते हैं और वही रिपोर्ट करते हैं, जो देश देखता है। हम ऐसे और विकल्प तलाश रहे हैं, जिससे ऐसी गैर-कानूनी कामों पर पूरी तरह रोक लगाई जा सके।’’

क्या है TRP?

TRP यानी टेलीविजन रेटिंग पॉइंट। यह किसी भी टीवी प्रोग्राम की लोकप्रियता और ऑडियंस का नंबर पता करने का तरीका है। किसी शो को कितने लोगों ने देखा, यह TRP से पता चलता है।यदि किसी शो की TRP ज्यादा है तो इसका मतलब है कि लोग उस चैनल या उस शो को पसंद कर रहे हैं। एडवर्टाइजर्स को TRP से पता चलता है कि किस शो में एडवर्टाइज करना फायदेमंद रहेगा।

TRP को कैल्कुलेट कैसे करते हैं?

BARC ने करीब 45 हजार घरों में डिवाइस लगाया है, जिसे बार-ओ-मीटर या पीपल मीटर कहते हैं। यह मीटर शो में एम्बेड वाटरमार्क्स को रिकॉर्ड करता है।BARC रिमोट में हर घर के प्रत्येक सदस्य के लिए अलग बटन होता है। शो देखते समय उन्हें वह बटन दबाना होता है, जिससे BARC को यह पता चलता है कि किस शो को परिवार के किस सदस्य ने कितनी देर देखा।इसी आधार पर BARC बताता है कि 20 करोड़ टीवी देखने वाले परिवारों में शो या प्रोग्राम देखने का पैटर्न क्या है या 84 करोड़ दर्शक क्या देख रहे हैं और कितनी देर क्या देखना पसंद करते हैं।

BARC क्या है?

BARC (ब्रॉडकास्ट ऑडियंस रिसर्च काउंसिल) एक इंडस्ट्री बॉडी है, जिसका संयुक्त मालिकाना हक एडवर्टाइजर्स, एड एजेंसियों और ब्रॉडकास्टिंग कंपनियों के पास है। इंडियन सोसायटी ऑफ एडवर्टाइजर्स, इंडियन ब्रॉडकास्टिंग फाउंडेशन और एडवर्टाइजिंग एजेंसी एसोसिएशन ऑफ इंडिया इसके संयुक्त मालिक है।

मुंबई पुलिस ने 8 अक्टूबर को प्रेस कॉन्फ्रेंस करके फॉल्स टीआरपी रैकेट का भंडाफोड़ करने का दावा किया। पुलिस कमिश्नर परमबीर सिंह ने प्रेस कॉन्फ्रेंस कर बताया कि रिपब्लिक टीवी समेत तीन चैनल पैसे देकर टीआरपी खरीदते थे और बढ़वाते थे। इस मामले में चार लोगों को गिरफ्तार किया गया। इन चैनलों से जुड़े लोगों को पूछताछ के लिए बुलाया जाएगा। पुलिस ने यह भी कहा था कि रिपब्लिक के प्रमोटर और डायरेक्टर के खिलाफ जांच की जा रही है। हिरासत में लिए गए लोगों ने यह बात कबूल की है कि ये चैनल पैसे देकर टीआरपी बदलवाते थे। उधर, रिपब्लिक मीडिया नेटवर्क ने इन आरोपों को झूठा करार दिया है

‘Maal hai kya’?’: Kangana Ranaut takes jibe at Deepika Padukone over alleged drug link

0
https://mumbainews.live/
https://mumbainews.live/

 

Mumbai: Bollywood actress Kangana Ranaut on Monday took a dig at Deepika Padukone, saying depression is a consequence of drug abuse. Taking to her verified Twitter account, Kangana used Deepika’s name in a hashtag.

“Repeat after me, depression is a consequence of drug abuse. So called high society rich star children who claim to be classy and have a good upbringing ask their manager,” MAAL HAI KYA?” #boycottBollywoodDruggies #DeepikaPadukone,” tweeted Kangana.

Notably, a day after Bollywood actor Sushant Singh Rajput’s death on June 14, Deepika had tweeted: “Repeat after me: depression is an illness.”

https://mumbainews.live/
https://mumbainews.live/

Apprently, Deepika Padukone is an Indian actress and producer who works in Hindi films. One of the highest-paid actresses in India, her accolades include three Filmfare Awards. She features in listings of the nation’s most popular personalities, and Time named her one of the 100 most influential people in the world in 2018.

Padukone, the daughter of the badminton player Prakash Padukone, was born in Copenhagen and raised in Bangalore. As a teenager, she played badminton in national level championships but left her career in the sport to become a fashion model. She soon received offers for film roles and made her acting debut in 2006 as the title character of the Kannada film Aishwarya. Padukone then played a dual role opposite Shah Rukh Khan in her first Bollywood release, the romance Om Shanti Om (2007), which won her the Filmfare Award for Best Female Debut. Padukone received praise for her starring role in the romance Love Aaj Kal (2009), but this was followed by a brief setback.

https://mumbainews.live/
https://mumbainews.live/

The romantic comedy Cocktail (2012) marked a turning point in her career, and she gained further success with starring roles in the romantic comedies Yeh Jawaani Hai Deewani and Chennai Express (both 2013), the heist comedy Happy New Year (2014), Sanjay Leela Bhansali‘s period dramas Bajirao Mastani (2015) and Padmaavat (2018), and the Hollywood action film XXX: Return of Xander Cage (2017). She also received critical acclaim for playing a character based on Juliet in Bhansali’s tragic romance Goliyon Ki Raasleela Ram-Leela (2013) and a headstrong architect in the comedy-drama Piku (2015), winning two Filmfare Awards for Best Actress. She formed her own company Ka Productions in 2018, under which she produced Chhapaak (2020), in which she also starred as an acid attack survivor.

https://mumbainews.live/
https://mumbainews.live/

Padukone is the chairperson of the Mumbai Academy of the Moving Image and is the founder of the Live Love Laugh Foundation, which creates awareness on mental health in India. Vocal about issues such as feminism and depression, she also participates in stage shows, has written columns for a newspaper, designed her own line of clothing for women, and is a prominent celebrity endorser for brands and products. Padukone is married to her frequent co-star Ranveer Singh.

अस्पताल की दूसरी मंजिल से छलांग लगाकर व्यक्ति ने की आत्महत्या, जांच में जुटी पुलिस

0
https://mumbainews.live
https://mumbainews.live

आशु विश्वकर्मा
पालघर : बोइसर के चिन्मय अस्पताल के दूसरे मंजिल से छलांग लगाकर एक मरीज द्वारा आत्महत्या किए जाने की खबर सामने आई है। मामले में पुलिस ने एडीआर के तहत केस दर्ज कर शव को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया है। वहीं इस घटना से पूरे परिसर में खलबली मच गई है।

जानकारी के मुताबिक, चंद्रकांत चौधरी नामक व्यक्ति की तबियत अचानक खराब हो जाने के कारण उसे बोइसर स्थित चिन्मय अस्पताल के जर्नल वार्ड में भर्ती कराया गया था। भर्ती कराने के बाद मृतक चंद्रकांत ने किसी कारण वश शनिवार की सुबह अचानक अस्पताल के दूसरी मंजिल से छलांग लगा लिया और गंभीर रूप से घायल हो गया।

घटना की जानकारी मिलते ही तुरंत बोइसर पुलिस घटना स्थल पर पहुंच कर घायल चंद्रकांत को उसी अस्पताल में इलाज के लिए भर्ती कराया और डॉक्टरों ने तुरंत उसका इलाज शुरू किया। लेकिन उपचार के दौरान ही चंद्रकांत की मृत्यु हो गई। पुलिस ने शव का पंचनामा का शव को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया है। साथ ही बोइसर पुलिस एडीआर के तहत मामला दर्ज कर आत्महत्या के पीछे का कारण जानने में जुटी है।

पालघर में फिर महसूस हुए भूकंप के झटके, नागरिकों में भय का माहौल

0
https://mumbainews.live
https://mumbainews.live

पालघर 🙁 आशु विश्वकर्मा) जिले में 2 से 3 महीनों के भीतर कई बार भूकंप के झटके महसूस किए गए। हालांकि भूकंप से किसी की भी जान माल की हानि नहीं हुई। राष्ट्रीय भूकंप केंद्र के मुताबिक, पालघर जिले के डहाणू और तालसरी तालुका में बीती रात तीन भूकंप के झटके महसूस किए गए। पहला झटका देर रात 2 बजकर 50 मिनट पर महसूस किया गया । इसके बाद दूसरा झटका तड़के 4 बजकर 12 मिनट पर तीसरा झटका सुबह 5 बजकर 49 मिनट पर महसूस किया गया। इन भूकंपों की तीव्रता 3.5, 2.1 और 2.0 मापी गई है।

वहीं सोमवार और रविवार को भी पालघर में लगातार भूकंप के झटके महसूस किए गए थे। बतादें कि इससे पहले पांच सितंबर को भी पालघर में कम तीव्रता वाले भूकंप के दो झटके महसूस किये गए थे। शुक्रवार देर रात करीब आधे घंटे के अंतराल पर यह झटके महसूस किए गए थे। पालघर जिला आपदा नियंत्रण प्रकोष्ठ के प्रमुख विवेकानंद कदम ने कहा था कि, डहाणू तहसील में शुक्रवार रात 11 बजकर 43 मिनट पर 4.0 तीव्रता का पहला भूकंप और तलसारी तहसील में रात 11.41 बजे 3.6 तीव्रता का भूकंप का दूसरा झटका महसूस किया गया।

गौरतलब है कि पालघर जिले के डहाणू और तालसरी में नवम्बर 2018 से भूकंप के हल्के झटके महसूस किए जा रहे हैं। इस वर्ष बरसात के मौसम में भूकंप के झटके नहीं मासूस किये गए, लेकिन अगस्त महीने से फिर लगातार पालघर जिले में भूकंप के झटके महसूस किए जाने से यहां के रहने वाले नागरिकों में भय का माहौल उत्पन्न हो गया है। लोगों ने घरों से बाहर निकल कर रहना शुरू कर दिया है। वहीं बीती रात महसूस हुए भूकंप के झटकों से कोई जीव हानि नहीं हुई है, लेकिन कई घरों के दीवालों में दरार आ गई है। जिससे उन्हें काफी नुकसान हुआ है। साथ ही भूकंप का केंद्र जमीन के नीचे बताया गया है।

FilMe offres QR code-based technology to watch films

0

Innovations are an eclectic mix of a new technology, an old problem, and a big idea. The ubiquitous QR code used for making payments can now be used for watching films. The revolutionary innovative technology has been introduced by an entertainment industry start up FilMe. The innovative technology does not end here, it makes movie watching even easier and economical.

With FilMe now viewers don’t have to pay for subscriptions, monthly commitments or search from hordes of apps on smartphones to enjoy that movie that they wanted to see. On FilMe one can watch movies the ala carte way (pay per view) by just scanning a QR code using phone’s camera, viewer  can watch films without any subscription and app download, in a matter of seconds.

As learnt this disruptive product offers even more value as it enables multiple viewings over a 7-day period for a flat price of Rs. 30 only with ability to share the movie with friends and family. The technology also enables casting of content on television.   At this extremely lucrative pricing FilMe enters with a better value proposition in a market where players  like Google Play Movies, iTunes, YouTube and recently launched services like Shemaroo Box Office and Zee Plex have their presence. FilMe is rolling out its operations from the third weekend of September.

FilMe has acquired rights of recently released, highly rated Hindi films like Badla, Kamyab, Chaman BaharSky is PinkWhat are the Odds and Pihu among others and aggressively acquiring quality content from all languages. The films are available under the range called “FilMe Ikon”.

 Talking about the innovation and his new platform Dr. Abhishek Shukla, Founder of FilMe says, “our key value add is the relief from costly 3-4 monthly subscriptions that consumers take and do not even use to the optimum. With FilMe, there is no confusion of browsing thousands of titles to arrive at what you want to watch. Our wide online and offline distribution ensures that we give what you want to watch right when you want to watch. He adds that with FilMe we are looking to expand the pay per view model in India which has been not been properly addressed with right kind of product and content offering.”.

Apart from India, FilMe is launching its services in Gulf and middle east countries also. In India FilMe plans to have a country-wide distribution set up to sell the FilMe retail cards and will be available through mobile retail stores, electronic superstores, Cafes, Stationary stores, booths at shopping centers, and departmental stores. Consumers can also buy it online on Amazon, Paytm and BookMyShow along with company’s own website.

Jassie Gill’s latest romantic ballad Pyaar Mangdi to release !

0
https://mumbainews.live/
https://mumbainews.live/

Jassie Gill’s latest romantic ballad Pyaar Mangdi to release on September 15; song shot at Lake Louise, Calgary , Canada

Jassie Gill is all set to drop his latest single titled Pyaar Mangdi on September 15. The love ballad conveys a love story. The lyrics for Pyaar Mangdi have been penned by Happy Raikoti with music composed by Avvy Sra. The song is produced by EYP Creations’ Nikhil Dwivedi. Rahul Chahal has directed the video for the single.

https://mumbainews.live/
https://mumbainews.live/

Talking about Pyaar Mangdi, Jassie, who has some of the most popular romantic ballads to his credit, says, “I love crooning to romantic songs. When this song came my way, I was super excited. It is a lovely song that will stay with you for a long time. I hope that people shower the same love on this as much as they have on my other songs and singles.”

Jassie reveals that he hired the local team in Saskatchewan, Regina and while shooting the song they took care of the safety of the cast and the crew during the on-going Covid-19 pandemic. To keep all health risks at bay, the song was recorded at his own studio in Canada which he made at the basement in his house. Shooting during the new normal was a rather unique experience for the entire team.

“It was a lovely experience shooting for the song in Canada. The locations are beautiful. we also hired the local crew and we shot keeping the safety guidelines in mind. We had to take extra precautions during the shoot. All in all, it was an experience worth remembering,” he shares.

कंगना रनौतने कथित अवैध तोड़फोड़ के लिए बृह्नमुंबई महानगर पालिका (BMC) से दो करोड़ रुपए के मुआवजे की मांग

0

अभिनेत्री कंगना रनौत ने kangana ranut अपने बंगले में की गई कथित अवैध तोड़फोड़ के लिए बृह्नमुंबई महानगर पालिका (BMC) से दो करोड़ रुपए के मुआवजे की मांग के वास्ते बंबई उच्च न्यायालय के समक्ष अपनी याचिका में संशोधन किया है। उपनगरीय इलाके बांद्रा स्थित रनौत के बंगले में बीएमसी ने गत नौ सितंबर को कथित अवैध निर्माण को तोड़ा था, जिसके खिलाफ अभिनेत्री ने उच्च न्यायालय का दरवाजा खटखटाया था। तब न्यायमूर्ति एसजे कठवल्ला की अध्यक्षता वाली खंडपीठ ने बीएमसी की कार्रवाई पर यह कहते हुए रोक लगा दी थी कि यह ‘दुर्भावनापूर्ण’ प्रतीत होती है।

रनौत ने अपनी संशोधित याचिका में आरोप लगाया कि महाराष्ट्र सरकार के खिलाफ की गई उनकी टिप्पणियों के परिणामस्वरूप बीएमसी ने तोड़फोड़ की कार्रवाई का फैसला किया। इसके मुताबिक, हाल ही में अभिनेत्री की महाराष्ट्र सरकार से तनातनी चल रही थी क्योंकि उन्होंने राज्य सरकार से संबंधित कुछ मुद्दों से निपटने को लेकर की गई कार्रवाई पर अपने विचार व्यक्त किए थे, जिनका आम जनता पर प्रभाव पड़ता है।

संशोधित याचिका के मुताबिक, ‘उनके विचारों ने कुछ खास पक्षों को नाखुश किया और एक विशेष राजनीतिक दल की नाराजगी का कारण बना जोकि महाराष्ट्र सरकार का हिस्सा है।’ इसके मुताबिक, यही दल बीएमसी में भी सत्तारूढ़ है। हालांकि, इसमें शिवसेना का नाम नहीं लिया गया। याचिका में यह भी दलील दी गई कि रनौत ने बंगले में ढांचागत मरम्मत के लिए बीएमसी से अनुमति मांगी थी और वर्ष 2018 में यह अनुमति प्रदान भी की गई थी। याचिका में अदालत से बीएमसी की कार्रवाई को अवैध घोषित करने और संबंधित अधिकारियों से नुकसान की भरपाई के बतौर दो करोड़ रुपये का मुआवजा देने का अनुरोध किया गया है। मामले की अगली सुनवाई 22 सितंबर के लिए निर्धारित की गई है।

कोरोना से जंग में बड़ा झटका! AstraZeneca की Covid Vaccine का ट्रायल रुका, सामने आई ये बड़ी गलती

0
https://mumbainews.live/
https://mumbainews.live/

दुनिया में जारी कोरोना संकट के बीच इसके वैक्सीन AstraZeneca की Covid Vaccine को लेकर तमाम तरह के शोध चल रहे हैं। इस बीच कोरोना के खिलाफ जंग में तब बड़ा झटका लगा जब अमेरिकी कंपनी एस्ट्राजेनेका औऱ ऑक्सफ़ोर्ड यूनिवर्सिटी की वैक्सीन ने अपने कोरोना वैक्सीन के अंतिम चरण के ट्रायल को रोक दिया। एस्ट्राज़ेनेका ने AstraZeneca की Covid Vaccine एक बयान जारी कर कहा है कि यह एक रूटीन रुकावट है, क्योंकि टेस्टिंग में शामिल व्यक्ति की बीमारी के बारे में अभी तक कुछ समझ में नहीं आ रहा है। इसकी अच्छे समीक्षा की जाएगी और उसके बाद ही ट्रायल फिर से शुरू होगा।

russia covid vaccine

वहीं, हेल्थ न्यूज वेबसाइट स्टेट न्यूज की रिपोर्ट के मुताबिक, ट्रायल में भाग लेने वाले एक वालंटियर में वैक्सीन के संदिग्ध गंभीर प्रतिकूल प्रतिक्रिया देखने को मिली है और उसी के मद्देनजर यह वैक्सीन के अंतिम फेज के ट्रायल पर रोक लगाने का फैसला लिया गया है। बता दें कि ऑक्सफोर्ड विश्वविद्यालय के साथ दवा विकसित करने वाली कंपनी एस्ट्राजेने AstraZeneca की Covid Vaccine का कोविड -19 वैक्सीन की वैश्विक दौड़ में सबसे आगे है।

कंपनी की तरफ से बयान जारी कर कहा गया है कि परीक्षण के दौरान एक व्यक्ति बीमार पड़ गया, जिसके बाद हमने परीक्षण पर रोक लगाने का फैसला किया है। मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक, एस्ट्राजेनेका ने AstraZeneca की Covid Vaccine कोरोना वैक्सीन ट्रायल पर सुरक्षा कारणों के चलते रोक लगा दी है। कंपनी की तरफ से यह निर्णय इसलिए लिया गया, क्योंकि परीक्षण के आखिरी चरण में एक प्रतिभागी पर इसके गंभीर प्रतिकूल प्रभाव हो रहे थे। जिस वैक्सीन पर रोक लगाई गई है, उसे लेकर माना जा रहा था कि वो कोरोना से लड़ने में कारगार हथियार होगी।

मीडिया ने एस्ट्राजेनेका AstraZeneca की Covid Vaccine के प्रवक्ता के बयान के हवाले से कहा कि मानक समीक्षा प्रक्रिया ने सुरक्षा डाटा की समीक्षा करने की अनुमति देने के लिए वैक्सीनेसन पर रोक लगा दी है। यह अध्ययन विभिन्न स्थलों पर एस्ट्राजेनेका और यूनिवर्सिटी ऑफ ऑक्सफोर्ड के शोधकर्ताओं द्वारा विकसित किए जा रहे कोविड-19 वैक्सीन का परीक्षण कर रहा है। इसमें यूनाइटेड किंगडम में किया जा रहा परीक्षण भी शामिल है, जहां वैक्सीन के प्रतिकूल प्रभाव रिपोर्ट किए गए हैं।

coronavirus vaccine (सांकेतिक तस्वीर)

मीडिया रिपोर्ट के अनुसार, मामला किस तरह का था और वैक्सीन की प्रतिकूल प्रतिक्रिया कब देखने को मिली, इसकी विस्तृत जानकारी नहीं मिल पाई है। हालांकि, जिन प्रतिभागियों पर वैक्सीन का परीक्षण किया जा रहा था, वो जल्द ही रिकवर हो जाएंगे। रिपोर्ट में कहा गया, वैक्सीन के परीक्षण पर रोक ने अन्य एस्ट्राजेनेका वैक्सीन के परीक्षणों को प्रभावित किया है। साथ ही अन्य वैक्सीन निर्माताओं द्वारा किए जा रहे क्लिनिकल ट्रायल को भी प्रभावित किया है। अब वे सब भी इस तरह के संकतों की तलाश में होंगे ताकि वैक्सीन के उचित प्रभाव को समझा जा सके।

बॉलीवुड को बदनाम करने की साजिश चल रही है – सांसद और दिग्गज अभिनेत्री जया बच्चन

0

समाजवार्टी पार्टी की सांसद और दिग्गज अभिनेत्री जया बच्चन jaya bachhan ने आज राज्यसभा कहा कि बॉलीवुड को बदनाम करने की साजिश चल रही है। मनोरंजन उद्योग में लोगों को सोशल मीडिया के माध्यम से ट्रोल किया जा रहा है। उन्होंने एक्ट्रेस कंगना रनौत kangana ranaut का नाम लिए बिना कहा कि इस इंडस्ट्री में अपना नाम बनाने वाले लोग इसे अब गटर बता रहे हैं। बता दें कि सुशांत सिंह राजपूत sushant singh rajput की मौत मामले में बार-बार बयान देकर चर्चा में आई कंगना रनौत ने बीते 26 अगस्त को ट्विटर के जरिए बॉलीवुड को गटर कह डाला था।

सपा सांसद जया बच्चन (फाइल फोटो)

वहीं अब कंगना रनौत ने ट्वीट कर कहा- जया जी, आप तब भी वही बात कहेंगी, अगर मेरी जगह आपकी बेटी श्वेता को टीनएज में पीटा जाता, ड्रग दिया जाता और छेड़छाड़ की जाती। क्या आप तब भी ये ही कहती अगर अभिषेक लगातार बुलिंग और उत्पीड़न की शिकायत करता और एक दिन फांसी पर लटका मिले? हमारे लिए भी करुणा से हाथ जोड़कर दिखाएं। बताते चलें कि समाजवादी पार्टी की सांसद जया बच्चन ने राज्यसभा में कहा है कि ड्रग्स से बॉलीवुड को बदनाम करने की साजिश की जा रही है। उनके बयान पर ही कंगना ने रिएक्ट किया है।

कंगना रनौत

इसके अलावा जया ने कहा, “मैं इस तरह की बातों से पूरी तरह से असहमत हूं। मुझे उम्मीद है कि सरकार ऐसे लोगों को इस तरह की भाषा का उपयोग नहीं करने के लिए कहेगी। सिर्फ कुछ लोगों के कारण आप पूरी इंडस्ट्री की छवि को धूमिल नहीं कर सकते।”  गोरखपुर के सांसद रवि किशन ravi kishan का नाम लिए बिना उन्होंने कहा, “मुझे शर्म आती है कि कल लोकसभा में हमारे एक सदस्य, जो फिल्म उद्योग से हैं, ने इसके खिलाफ बात की। यह शर्मनाक है। जिस थाली में खाते हैं, उसी में छेद करते हैं। गलत बात है।”

रवि किशन-जया बच्चन

दरअसल संसद के मानसून सत्र के पहले दिन रवि किशन ने लोकसभा में मादक पदार्थों का मुद्दा उठाया। यूपी स्थित गोरखपुर से भाजपा सांसद रवि किशन ने सोमवार को दावा किया कि पड़ोसी मुल्क चीन और पाकिस्तान हिंदुस्तान की युवा पीढ़ी को बर्बाद करने के लिए नशीले पदार्थों की तस्करी करा रहे हैं और नशे के इस जंजाल में बड़ी संख्या में फिल्म इंडस्ट्री के लोग भी शामिल हैं। किशन के इस दावे पर समाजवादी पार्टी से राज्यसभा सांसद जया बच्चन ने सदन में सख्त प्रतिक्रिया दी है। वहीं सपा सांसद को जवाब देते हुए भाजपा सांसद ने कहा कि मुझे जया जी से अपनी बात का समर्थन करने की उम्मीद थी। उन्होंने कहा कि हमें उद्योग की रक्षा करने की आवश्यकता है।

मुंबई से विरार पिकनिक मनाने आये दो लोगों ने सेल्फी के चक्कर मे गवाई जान

0

आशु विश्वकर्मा
विरार : शहर में पिकनिक मनाने के लिए आये एक ग्रुप के दो लोगों की सेल्फी निकालने के चक्कर में डूबने से मौत हो गई। मिली जानकारी के अनुसार जोगेश्वरी पूर्व से रविवार को विरार पुलिस थानांतर्गत दो लोगो की डूबने से मौत होने की घटना सामने आई है।पुलिस इस मामले में एडीआर के तहत केस दर्ज कर आगे की तहकीकात में जुटी है। विरार पुलिस स्टेशन के सीनियर पीआई सुरेश वराडे ने बताया कि,मुंबई के जोगेश्वरी पूर्व से 8 से 9 लोग विरार के शिरस गांव केटी विहार फादर तलाव के पर पिकनिक मनाने के लिए आये थे उन्होंने कहा की तालाब के किनारे सेल्फी निकालते वक्त दोनों को पानी की गहराई समझ नही पाये और वह तलाव में डूब गए। पुलिस ने बताया कि,सूर्यकांत राजू सुवर्णा (32) और मंगेश अशोक राणे (24),दोनों की मृत्यु हो चुकी है । हलांकि,विरार पुलिस ने दोनों का शव बरामद कर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया है। आगे की तहकीकात पुलिस कर रही है।

पूर्व महापौर के हाथों मल्टीस्पेशलिटी अस्पताल का उद्धघाटन

0
आशु विश्वकर्मा
नालासोपारा : पालघर जिले के नालासोपारा पश्चिम स्थित एसटी बस डिपो रोड, वसई जनता बैंक के पास रविवार के दिन हितम मल्टीस्पेशलिटी अस्पताल का उद्धघाटन वसई विरार शहर के पूर्व महापौर रूपेश जाधव के हाथों किया गया। सारी सुविधाओं से परिपूर्ण इस मल्टीस्पेशलिटी अस्पताल में 15 बेड, 2 आईसीयू सेंटर, ऑपरेशन थेटर और पैथोलॉजी लैब की सुविधा अस्पताल में होने की जानकारी अस्पताल के संचालक डॉक्टर चंद्रजीत यादव और राजेश यादव ने दी। डॉक्टर यादव ने बताया कि अस्पताल शुरू करने का मुख्य उद्देश्य आम गरीब जनता की सेवा करना है। अस्पताल में गरीबों का इलाज कम दर में किया जाएगा। वहीं अस्पताल में जर्नल, सर्जिकल, छोटे बड़े सभी प्रकार कर ऑपरेशन किये जायेंगे। अस्पताल में ईसीजी, अल्ट्रा सोनोग्राफी, एक्सरे, कैशलेश मेडिक्लेम आदि सुविधाएं भी मौजूद हैं। इस दौरान जाने माने डॉक्टर दिलीप पलांगे, डॉक्टर चारुलता दिलीप पलांगे, बहुजन विकास आघाडी के नगरसेवक सालुंखे आदि कई गणमान्य लोग उपस्थित थे। उद्घाटन समारोह के दौरान वसई विरार के पूर्व महापौर रूपेश जाधव ने अस्पताल के संचालक डॉक्टर चंद्रजीत यादव और राजेश यादव को बधाई देते हुए कहा कि जनता के सेवा के लिए वे सदैव उनके साथ हैं। साथ ही हितम अस्पताल की पूरी टीम को भी उंन्होने बधाई दी। उद्घाटन समारोह के दौरान डॉक्टर सागर यादव, डॉक्टर अपूर्व यादव, डॉक्टर रवितोष सिंह, डॉक्टर सुशील पटेल, डॉक्टर नितेश यादव, रंजीत यादव, सुरजीत यादव, संतोष यादव, जितेश सिंह, मीत मेहता, मनीष शाहू, किरण मौर्या, प्रीति मौर्या, पत्रकार आशु विश्वकर्मा और अस्पताल की पूरी टीम ने डॉक्टर चंद्रजीत यादव और राजेश यादव को पुष्पगुच्छ देकर शुभकामनाएं दी।

रिया चक्रवर्ती केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) के सामने पेश हुई

0

1रिया चक्रवर्ती शुक्रवार को केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) के सामने पेश हुई

अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत की मौत के मामले में पूछताछ के लिए तलब किए जाने के बाद उनकी प्रेमिका रिया चक्रवर्ती शुक्रवार को केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) के सामने पेश हुई। रिया यहां डीआरडीओ के गेस्टहाउस पहुंची, जहां सीबीआई की विशेष जांच टीम ने उनसे पूछताछ करनी शुरू कर दी। 6 अगस्त को संघीय एजेंसी द्वारा मामले की जांच की कमान अपने हाथ में लेने के बाद यह पहली बार है कि रिया से यह एजेंसी पूछताछ कर रही है।

रिया के अलावा उनके भाई शोविक, सुशांत के फ्लैटमेट सिद्धार्थ पिठानी, हाउस मैनेजर सैमुअल मिरांडा, निजी कर्मचारी नीरज सिंह से भी पूछताछ की जा रही है।

सीबीआई सुशांत से उनके रिश्ते के बारे में, पिछले साल यूरोप यात्रा के दौरान अभिनेता का व्यवहार कैसा था, कथित ड्रग एंगल और अभिनेता के खाते से वित्तीय लेनदेन के मामले में पूछताछ कर रही है।

सीबीआई के अलावा, प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) और नारकोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो (एनसीबी) भी मामले में विभिन्न पहलूओं की जांच कर रहे हैं।

ईडी ने 31 जुलाई को रिया और अन्य के खिलाफ मनी लॉन्ड्रिंग का मामला दर्ज किया था, जबकि एनसीबी ने वित्तीय जांच एजेंसी के अनुरोध पर बुधवार को मामला दर्ज किया।

महाराष्ट्र में मराठवाड़ा क्षेत्र कोरोना वायरस के 1055 नए मामलों

0

महाराष्ट्र में मराठवाड़ा क्षेत्र कोरोना वायरस के 1055 नए मामलों

महाराष्ट्र में मराठवाड़ा क्षेत्र के आठ जिलों में पिछले 24 घंटों के दौरान वैश्विक महामारी कोरोना वायरस के 1055 नए मामलों की पुष्टि की गई तथा 33 संक्रमित मरीजों की मौत हो गई।

स्वास्थ्य अधिकारियों ने शुक्रवार को बताया कि सबसे अधिक 13 मौतें औरंगाबाद में हुई और 426 नए मामले दर्ज किये गए।

इसके अलावा लातूर में 118 नए मामले और पांच मौतें, बीड में 63 मामले और तीन मौतें, नांदेड़ में 148 मामले और नौ मौतें, परभणी में 63 मामले और दो की मौत, जालना में 81 मामले और एक की मौत, हिंगोली में 25 नए मामले और उस्मानाबाद में कोरोना के 110 नए मामले दर्ज किये गए।

महाराष्ट्र पुलिस के 24 घंटों में पुलिसकर्मियों में संक्रमण के 151 नये मामले

0

महाराष्ट्र पुलिस के 24 घंटों में पुलिसकर्मियों में संक्रमण के 151 नये मामले

मुंबई । वैश्विक महामारी कोविड-19 महाराष्ट्र पुलिस के लिए निरंतर घातक सिद्ध हो रहा है और कोरोना वायरस अब तक 153 पुलिसकर्मियों की जान ले चुका है।

महाराष्ट्र पुलिस के शनिवार को जारी आंकड़ों में पिछले 24 घंटों में पुलिसकर्मियों में संक्रमण के 151 नये मामले सामने आए और पांच की कोरोना ने जान ले ली।

कोरोना की चपेट में अब तक कुल 14 हजार 792 कर्मी आ चुके हैं। इनमें से 1574 अधिकारी और 13218 पुरुष सिपाही हैं। इस जानलेवा वायरस 153 पुलिसकर्मियों की जान ले चुका है। इसमें 15 अधिकारी और 138 पुरुषकर्मी हैं।

महाराष्ट्र के 2772 पुलिसकर्मी कोरोना से वर्तमान में पीड़ित हैं जिसमें 358 अधिकारी और 2414 पुरुष सिपाही हैं। संक्रमण को 11867 पुलिसकर्मी मात दे चुके जिसमें 1201 अधिकारी और 10666 पुरुषकर्मी हैं।

राजधानी दिल्ली में कोरोना वायरस गिरावट के साथ 89.23 प्रतिशत पर आ गई।

0

राजधानी दिल्ली में कोरोना वायरस गिरावट के साथ 89.23 प्रतिशत पर आ गई।

राजधानी दिल्ली में कोरोना वायरस (कोविड-19) फिर से पैर पसारने लगा है और नये मामलों की तुलना में स्वस्थ होने वालों की संख्या घटने से शनिवार को रिकवरी दर आंशिक गिरावट के साथ 89.23 प्रतिशत पर आ गई।

चिंता की बात यह है कि दिल्ली में पिछले 24 घंटों के दौरान स्वस्थ मामलों की तुलना में नये मामलों में वृद्धि से सक्रिय मामले भी साढ़े 14 हजार से ऊपर निकल गए।

दिल्ली सरकार के स्वास्थ्य मंत्रालय के अनुसार इस दौरान कोरोना वायरस (कोविड-19) के 1,945 नये मामले सामने आये जबकि 1,449 मरीज स्वस्थ हुए। राजधानी में कुल संक्रमितों का आंकड़ा शनिवार को बढ़कर एक लाख 71 हजार 366 पहुंच गया। इस दौरान कोरोना वायरस को मात देने वालों का कुल आंकड़ा डेढ़ लाख के पार 1,52,922 हो गया।

देश में दिल्ली का स्थान सर्वाधिक रिकवरी दर वाले राज्यों में है लेकिन चिंता की बात यह है कि ठीक होने वालों की संख्या नये मरीजों की तुलना में कम रहने से आज रिकवरी दर में कल के 89.41 फीसदी से नीचे 89.23 प्रतिशत रह गई।

राजधानी में कोराेना वायरस संक्रमण से आज 15 और मरीजों की जान चली गयी इसे मिलाकर यह जानलेवा वायरस से अब तक 4,404 लोगों को लील चुका है।

सक्रिय मामलों में आज 490 की वृद्धि भी चिंता बढ़ाने वाला है। राजधानी में सक्रिय मामले गत दिवस के 13,550 से बढ़कर 14,040 पर पहुंच गये।

पिछले 24 घंटों में कोरोना जांच संख्या 22,004 रही। होम आइसोलेशन में 7024 और अस्पतालों में 3966 तथा शेष अन्य कोविड केंद्रों में मरीज हैं।

राजधानी में प्रति दस लाख में 81 हजार से अधिक 81508 जांच हुए हैं। अब तक कुल 15.48 लाख से अधिक कोरोना जांच हो चुकी है।

सात सितंबर से मेट्रो संचालन को चरणबद्ध तरीके से फिर से शुरू करने की अनुमति

0

सात सितंबर से मेट्रो संचालन को चरणबद्ध तरीके से फिर से शुरू करने की अनुमति

सार्वजनिक परिवहन के माध्यम से यात्रा फिर से शुरू करने की मांग करने वाले काफी लोगों के लिए गृह मंत्रालय (एमएचए) ने शनिवार को राहत प्रदान किया है। मंत्रालय ने सात सितंबर से मेट्रो संचालन को चरणबद्ध तरीके से फिर से शुरू करने की अनुमति देने का फैसला किया। कोरोनावायरस महामारी के मद्देनजर 22 मार्च से ही मेट्रो सेवाएं बंद हैं। अब गृह मंत्रालय ने एक सितंबर से शुरू हो रहे अनलॉक 4 के तहत कंटेनमेंट जोन के बाहर विभिन्न गतिविधियों को लेकर नई गाइडलाइन जारी की है।

मंत्रालय ने बयान जारी करते हुए यह जानकारी दी है। शनिवार को जारी किए गए नए दिशानिर्देश, राज्यों और केंद्रशासित प्रदेशों से प्राप्त फीडबैक और संबंधित केंद्रीय मंत्रालयों और विभागों के साथ व्यापक विचार-विमर्श पर आधारित हैं।

हालांकि, 30 सितंबर तक छात्रों और नियमित कक्षा गतिविधि के लिए स्कूल, कॉलेज, शैक्षिक और कोचिंग संस्थान बंद रहेंगे।

सामाजिक, शैक्षणिक, खेल, मनोरंजन, सांस्कृतिक, धार्मिक, राजनीतिक और दूसरे कार्यक्रमों की पर्याप्त एहतियात बरतते हुए 21 सितंबर से इजाजत होगी, बशर्ते उनमें 100 से ज्यादा व्यक्ति शामिल न हों।

21 सितंबर से ही ओपन एयर थिअटर्स को खोले जाने की इजाजत रहेगी।

श्रीराम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र मन्दिर आन्दोलन से जुड़े साधु-सन्त और नेता

0

श्रीराम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र मन्दिर आन्दोलन से जुड़े साधु-सन्त और नेता

महंत रघुबर दास : अंग्रेजों के दौर में अयोध्या में पहली बार सन् 1853 में निर्मोही अखाड़े ने दावा किया कि मन्दिर को तोडक़र मस्जिद बनवायी गयी। विवाद हुआ, तो प्रशासन ने विवादित स्थल पर मुस्लिमों को अन्दर इबादत और हिन्दुओं को बाहर पूजा की अनुमति दे दी; लेकिन मामला शान्त नहीं हुआ। सन् 1885 में महंत रघुबर दास ने मामले को लेकर फैज़ाबाद अदालत में बाबरी मस्जिद के पास राम मन्दिर के निर्माण की इजाज़त के लिए अपील दायर की और राम चबूतरे को जन्मस्थान बताया और वहाँ एक मण्डप बनाने की माँग की। यह अयोध्या विवाद से जुड़ा हुआ पहला मुकदमा था। उनकी अपील खारिज हो गयी; लेकिन मार्च, 1886 में वह ज़िला जज फैज़ाबाद कर्नल एफईए कैमियर की अदालत में पहुँचे, जिन्होंने फैसले में कहा कि मस्जिद हिन्दुओं की जगह पर बनी है। हालाँकि यह भी कहा कि अब देर हो चुकी है और इतने साल पुरानी गलती को अब सुधारना मुमकिन नहीं है, इसीलिए यथास्थिति रखी जाए।

बैरागी अभिराम दास : बिहार के दरभंगा में पैदा हुए बैरागी अभिराम दास रामानंदी सम्प्रदाय के संन्यासी थे और उनका नाम 22-23 दिसंबर, 1949 की दरम्यानी रात राम जन्म स्थान पर विवादित ढाँचे के भीतर भगवान राम की प्रतिमा के प्रकटीकरण के सम्बन्ध में सामने आया था। इस सम्बन्ध में तत्कालीन प्रशासन द्वारा दायर प्राथमिकी में उन्हें मुख्य अभियुक्त बनाया गया था। अयोध्या में उन्हें योद्धा साधु पुकारा जाता था। हिन्दू महासभा के सदस्य रहे अभिराम दास का सन् 1981 में देहांत हुआ।

देवराहा बाबा : आध्यात्मिक संन्यासी देवराहा बाबा के जन्मस्थान और वर्ष के बारे में जानकारी हमेशा रहस्य में रही है। उत्तर प्रदेश के देवरिया में सरयू नदी के किनारे उनका निवास रहा। डॉ. राजेंद्र प्रसाद, इंदिरा गाँधी, राजीव गाँधी से लेकर अटल बिहारी वाजपेयी तक को उनका शिष्य माना जाता है। जनवरी, 1984 में प्रयागराज के कुम्भ में आयोजित धर्म संसद की अध्यक्षता उन्होंने ही की थी; जिसमें विभिन्न हिन्दू सम्प्रदायों के धार्मिक एवं आध्यात्मिक नेताओं ने मिलकर 9 नवंबर, 1989 को अयोध्या में राम मन्दिर की नींव रखने का फैसला किया था।

मोरोपन्त पिंगले : नागपुर के मॉरिस कॉलेज के ग्रेजुएट और आरएसएस के प्रचारक पिंगले परदे के पीछे काम करने वाले रणनीतिकार माने जाते हैं। सभी प्रमुख यात्राओं और तमाम देशव्यापी अभियानों को आरम्भ करने में उनकी अहम भूमिका रही। शिला पूजन कार्यक्रम भी इसमें शामिल है; जिसके तहत तीन लाख से भी अधिक ईंटें अयोध्या पहुँचायी गयी थीं।

महंत अवैद्यनाथ : 1980 के दशक के मध्य में महंत अवैद्यनाथ राम मन्दिर आन्दोलन का नेतृत्व करने के लिए गठित रामजन्मभूमि मुक्ति यज्ञ समिति के प्रथम प्रमुख और रामजन्मभूमि न्यास समिति के अध्यक्ष थे। वह उत्तर प्रदेश के गोरक्षपीठ के महंत दिग्विजयनाथ के अनुयायी बने और सन् 1940 में संन्यासी के रूप में महंत अवैद्यनाथ का नाम धारण किया। बाबरी मस्जिद विध्वंस मामले में वह भी एक आरोपी बने।

स्वामी वामदेव : सन् 1984 में जयपुर में अखिल भारतीय सम्मेलन के ज़रिये तमाम हिन्दू धार्मिक और आध्यात्मिक नेताओं को एक मंच पर लाने में अहम भूमिका निभायी। तब 400 से भी अधिक हिन्दू धार्मिक नेताओं ने 15 दिन तक विचार मंथन करके आन्दोलन का रोडमैप तैयार किया था। स्वामी वामदेव ने सन् 1990 में अयोध्या में कारसेवकों का आगे बढक़र नेतृत्व किया था। मुलायम सिंह यादव सरकार के आदेश पर पुलिस द्वारा की गयी गोलीबारी में इनमें से कई की मौत हो गयी। स्वामी वामदेव 6 दिसंबर,1992 को अयोध्या में थे, जब बाबरी मस्जिद गिरायी गयी।

श्रीश चंद्र दीक्षित : उत्तर प्रदेश के सेवानिवृत्त डीजीपी श्रीश चंद्र दीक्षित ने राम मन्दिर आन्दोलन में कार सेवकों के लिए नायक की भूमिका निभायी थी। सेवानिवृत्त होने के बाद वह विश्व हिन्दू परिषद् (विहिप) से जुड़ गये और केंद्रीय उपाध्यक्ष बन गये। प्रशासन से नज़रें बचाकर कारसेवकों को अयोध्या पहुँचाना हो या फिर कानून को धता बताकर कार सेवा करवाना; इन कामों में श्रीश चंद्र दीक्षित ने बड़ी भूमिका निभायी थी। सन् 1991 के लोकसभा चुनाव में श्रीश चंद्र दीक्षित काशी से जीतकर सांसद बने।

विष्णु हरि डालमिया : व्यापारी परिवार के डालमिया सन् 1992 से सन् 2005 तक विहिप के अध्यक्ष रहे। वह रामजन्मभूमि आन्दोलन के प्रमुख नेताओं में से एक थे। सन् 1985 में श्रीराम जन्मभूमि न्यास का गठन हुआ, तो उन्हें कोषाध्यक्ष बनाया गया। बाबरी मस्जिद के विध्वंस के बाद उन्हें गिरफ्तार किया गया।

दाऊ दयाल खन्ना : राम जन्मभूमि मुक्ति यज्ञ समिति के महासचिव के रूप में खन्ना ने मन्दिर आन्दोलन का आधार तैयार करने में अहम भूमिका निभायी थी। आरम्भिक वर्षों में कांग्रेस में रहे खन्ना ने सन् 1983 में एक जनसभा में अयोध्या, मथुरा और काशी (वाराणसी) में मन्दिरों के पुनर्निर्माण का मुद्दा उठाया था। सितंबर, 1984 में बिहार के सीतामढ़ी से मन्दिर आन्दोलन के लिए पहली यात्राओं में से एक की अगुआई की।

कोठारी बन्धु : राम कुमार कोठारी और शरद कुमार कोठारी सगे भाई थे; जो अक्टूबर, 1990 में कारसेवा में भाग लेने के लिए अयोध्या आये थे। उन्होंने कारसेवकों के पहले जत्थे के सदस्यों के रूप में 30 अक्टूबर, 1990 को अयोध्या में कारसेवा की थी। दो दिन बाद, 02 नवंबर को कारसेवा के ही दौरान पुलिस द्वारा चलायी गयी गोली से उनकी मौत हो गयी। इससे देश भर में नाराज़गी के स्वर उभरे। रामजन्मभूमि आन्दोलन में उन्हें नायक और शहीद का दर्जा दिया गया।

के.के. नायर : केरल के अलप्पी के रहने वाले के.के. नायर की भी राम मन्दिर मामले में अहम भूमिका रही। नायर सन् 1949 में फैज़ाबाद के कलेक्टर बने और उसी साल विवादित स्थल पर राम की मूर्ति रखी गयी। कहते हैं कि तत्कालीन प्रधानमंत्री जवाहरलाल नेहरू और मुख्यमंत्री गोविंद बल्लभ पन्त के कहने के बावजूद नायर ने मूर्ति को हटवाने के आदेश को नहीं माना। नायर सन् 1952 में सेवानिवृत्ति लेकर जनसंघ (जो  इसके संस्थापक श्यामा प्रसाद मुखर्जी के निधन के बाद भारतीय जनसंघ और फिर भारतीय जनता पार्टी के रूप में बदल गया) से जुड़ गये। वह अवध में हिन्दुत्व के बड़े प्रतीक बन गये और बाद में जनसंघ के टिकट पर लोकसभा पहुँचे। उनके अलावा सुरेश बघेल और गोपाल सिंह विशारद का भी आन्दोलन में बड़ा रोल रहा।

अशोक सिंघल : विश्व हिन्दू परिषद् को बड़ी पहचान दिलाने और अशोक सिंघल का राम मन्दिर आन्दोलन में बड़ा योगदान रहा। देश और विदेश में मन्दिर निर्माण के पक्ष में माहौल बनाने और आन्दोलन में उनकी बड़ी और आक्रामक भूमिका रही। सन् 1981 में विहिप से जुडऩे वाले सिंघल के नेतृत्व में ही सन् 1984 में विशाल धर्म संसद का आयोजन किया गया। इसी धर्म संसद में राम मन्दिर निर्माण को लेकर निर्णायक आन्दोलन शुरू करने का संकल्प लिया गया था। इसके अलावा सन् 1989 में अयोध्या में विवादित स्थल के पास राम मन्दिर निर्माण की आधारशिला रखने में भी सिंघल का अहम योगदान था। अपनी फायरब्रांड छवि के कारण सिंघल राम भक्तों और हिन्दुओं के बीच काफी लोकप्रिय हुए। सन् 2015 में उनका निधन हो गया।

लालकृष्ण आडवाणी : आडवाणी ने इस आन्दोलन को राजनीतिक मुद्दा बनाने में सबसे बड़ी भूमिका निभायी थी। भाजपा अध्यक्ष रहते हुए उन्होंने सन् 1990 में राम मन्दिर निर्माण के लिए जगन्नाथ पुरी से अयोध्या के लिए रथयात्रा निकाली, जिस पर नरेंद्र मोदी की एक तरह से सारथी की भूनिका थी। आडवाणी का लक्ष्य 30 अक्टूबर को अयोध्या पहुँचना था; लेकिन 23 अक्टूबर को बिहार में लालू प्रसाद यादव की सरकार ने उन्हें रोककर गिरफ्तार कर लिया। इसके बाद 6 दिसंबर, 1992 को जिस दिन विवादित ढाँचा ढहाया गया था, उस दिन आडवाणी भी वहीं थे। भाजपा, विहिप और बजरंग दल के अन्य नेताओं के साथ वहाँ मौज़ूद आडवाणी आन्दोलन का नेतृत्व कर रहे थे और मंच से भाषण दे रहे थे। देखते-ही-देखते कारसेवकों ने विवादित ढाँचा गिरा दिया। इस मामले में आडवाणी समेत मुरली मनोहर जोशी, अशोक सिंघल, गिरिराज किशोर, विनय कटियार, उमा भारती, विष्णु हरि डालमिया और साध्वी ऋतंभरा पर साज़िश का मुकदमा दर्ज किया गया।

कल्याण सिंह : विवादास्पद ढाँचा विध्वंस के दौरान उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री रहे कल्याण सिंह की छवि हिन्दू हृदय सम्राट की बनी। मुख्यमंत्री न रहते हुए भी उन्होंने मन्दिर आन्दोलन में लगातार अहम भूमिका निभायी। सन् 1992 में सर्वोच्च न्यायालय को विवादित ढाँचे की सुरक्षा का हलफनामा दिया। विवादित ढाँचा टूटने के बाद उनकी सरकार बर्खास्त कर दी गयी। कल्याण सिंह बाद में भी उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री बने। फिर उनका भाजपा में आना-जाना लगा रहा। मोदी सरकार के पहले कार्यकाल में उन्हें राज्यपाल बनाया गया और फिलहाल सक्रिय राजनीति से दूर हैं।

मुरली मनोहर जोशी : भाजपा का प्रमुख चेहरा रहे मुरली मनोहर जोशी ने भी इस आन्दोलन में अहम भूमिका निभायी। आडवाणी की तरह विवादास्पद ढाँचा विध्वंस मामले में आरोपी बनाये गये। अब आडवाणी की तरह ही सक्रिय राजनीति से दूर हैं।

उमा भारती : राम मन्दिर आन्दोलन के दौरान साध्वी उमा भारती जनसभाओं में विहिप और भाजपा की मुख्य वक्ताओं में थीं। उन्होंने सन् 1990 से 1992 के आन्दोलन में सक्रिय भूमिका निभायी। विवादास्पद ढाँचा विध्वंस मामले में आरोपी उमा बाद में वाजपेयी और मोदी सरकार में केंद्रीय मंत्री बनीं। फिलहाल खुद संसदीय राजनीति से दूर हैं।

विनय कटियार : बजरंग दल की स्थापना कटियार ने ही की थी। वह राम मन्दिर आन्दोलन से बहुत सघन रूप से जुड़े रहे। उन्हें इस आन्दोलन का एक बड़ा चेहरा माना जाता है। फैज़ाबाद से वह तीन बार सांसद भी रहे हैं। कटियार भी 5 अगस्त के भूमि पूजन कार्यक्रम में नहीं पहुँचे।

श्रीराम जन्मभूमि तीर्थक्षेत्र मन्दिर ट्रस्ट के चेहरे

0

श्रीराम जन्मभूमि तीर्थक्षेत्र मन्दिर ट्रस्ट के चेहरे

मन्दिर ट्रस्ट के चेहरे

महंत नृत्य गोपाल दास : राम मन्दिर आन्दोलन में जिन प्रमुख सन्तों ने अयोध्या में सडक़ से लेकर न्यायालय तक संघर्ष किया, उनमें सबसे प्रमुख महंत नृत्य गोपाल दास हैं। महंत नृत्य गोपाल दास को श्रीरामजन्मभूमि तीर्थक्षेत्र ट्रस्ट के अध्यक्ष पद की ज़िम्मेदारी सौंपी गयी है। दशकों से नृत्यगोपाल दास राम मन्दिर आन्दोलन के संरक्षक की भूमिका में रहे हैं। मन्दिर निर्माण के लिए चंदा जुटाने से लेकर कई काम इन्हीं के नेतृत्व में होते आये हैं। नृत्य गोपाल दास को 6 दिसंबर, 1992 को कारसेवकों के बाबरी मस्जिद ढहाये जाने की घटना के पहले और बाद में कांग्रेस, बसपा और सपा सरकारों की तरफ से कई तरह से विरोध सहना पड़ा।

चंपत राय : विहिप के उपाध्यक्ष चंपत राय लम्बे समय से राम मन्दिर आन्दोलन से जुड़े रहे हैं। राय के पास विहिप के विस्तार का ज़िम्मा भी रहा। चंपत राय को श्रीराम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट के महासचिव जैसे अहम पद की ज़िम्मेदारी सौंपी गयी है। ट्रस्ट की बैठक हो या राम मन्दिर से सम्बन्धित कोई मुद्दा, चंपत राय द्वारा ही अधिकृत किया जाता रहा है। राम मन्दिर आन्दोलन को राष्ट्रव्यापी जन आन्दोलन बनाने में चंपत राय की अहम भूमिका रही है।

के. परासरन : सर्वोच्च न्यायालय के वरिष्ठ वकील के.परासरन श्री रामजन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट में सदस्य हैं। परासरन लम्बे वक्त से सर्वोच्च न्यायालय में हिन्दू पक्ष की पैरवी करते आये हैं। मन्दिर के पक्ष में फैसला आने में इनका अहम योगदान रहा है। परासरन को पद्म भूषण और पद्म विभूषण जैसे सम्मान भी मिल चुके हैं।

नृपेंद्र मिश्रा : अयोध्या में बनने जा रहे राम मन्दिर की सबसे महत्त्वपूर्ण ज़िम्मेदारी पूर्व आईएएस नृपेंद्र मिश्रा के पास है। मिश्रा राम मन्दिर निर्माण समिति के अध्यक्ष बनाये गये हैं। मिश्रा को निर्माण समिति का अध्यक्ष इसलिए बनाया गया है, ताकि मन्दिर तय सीमा में बिना किसी विवाद के साथ पूरी भव्यता के साथ तैयार हो सके। मिश्रा 1967 बैच के यूपी काडर के आईएएस अधिकारी रहे हैं।

देव गिरि जी महाराज : स्वामी देव गिरी महाराज के पास श्रीराम जन्म भूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट के कोषाध्यक्ष की ज़िम्मेदारी है। मन्दिर निर्माण के लिए जुटाये जाने वाले चन्दे का पूरा लेखा-जोखा इन्हीं के पास है। वह रामायण, श्रीभगवत्गीता सहित पौराणिक ग्रन्थों का देश-विदेश में प्रवचन करते हैं। हिन्दी, अंग्रेजी, मराठी, गुजराती के साथ-साथ संस्कृत भाषा पर भी उनकी अच्छी पकड़ है। गीता परिवार की स्थापना उन्होंने ही की थी।

कामेश्वर चौपाल : कामेश्वर चौपाल बिहार भाजपा के वरिष्ठ नेताओं में हैं। चौपाल राम जन्मभूमि आन्दोलन से जुड़े, फिर विहिप से जुड़े, बाद में भाजपा में आये। उन्हें श्रीराम जन्मभूमि मन्दिर तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट में दलित समुदाय के सदस्य के तौर पर शामिल किया गया है। सन् 1989 के राम मन्दिर आन्दोलन के समय हुए शिलान्यास में चौपाल ने ही राम मन्दिर की पहली ईंट रखी थी।

कोविड-19 से उबरकर अस्पताल से वापस आने के बाद अमिताभ बच्चन शूटिंग करने के लिए बिल्कुल तैयार हैं

0
https://mumbainews.live/
https://mumbainews.live/

कोविड-19 से उबरकर अस्पताल से वापस आने के बाद अमिताभ बच्चन शूटिंग करने के लिए बिल्कुल तैयार हैं

कोविड-19 से उबरकर अस्पताल से वापस आने के बाद अमिताभ बच्चन लोकप्रिय क्वीज शो ‘कौन बनेगा करोड़पति’ (केबीसी) के अगले सीजन की शूटिंग करने के लिए बिल्कुल तैयार हैं। उन्होंने अपने ब्लॉग में इस बात का खुलासा किया कि सभी सुरक्षा उपायों के साथ वह ‘केबीसी’ की शूटिंग की तैयारियों में जुटे हैं। उन्होंने लिखा, “‘केबीसी’ के प्रोमो की शूटिंग शुरू करने के लिए काफी सारी तैयारियां की गई हैं और अधिकतम सुरक्षा उपायों के साथ इसे कैसे किया जाना है इसके लिए ‘केबीसी’ के अपने खुद के प्रोटोकॉल हैं। जिंदगी पहले की तरह तो अब नहीं होगी..शायद..महामारी के इस दौर में हमें ऐसे ही रहना है।”

इससे पहले मई में लॉकडाउन के बीच बिग बी ने ‘केबीसी’ के अगले सीजन के लिए शूटिंग की शुरूआत की थी जिस पर सुरक्षा की दृष्टि से सवाल उठाए गए थे। मुद्दे पर अपनी सफाई देते हुए उन्होंने अपने ब्लॉग में लिखा था, “हां मैंने काम किया है.इससे परेशानी है, तो इसे अपने तक ही सीमित रखें.लॉकडाउन की इस परिस्थिति में यहां कुछ कहने की कोशिश न करें.जितना संभव हो सके, पर्याप्त मात्रा में सावधानियां बरती गईं.दो दिन के काम को एक ही दिन में निबटा लिया गया.शाम के छह बजे काम शुरू किया गया है और कुछ ही देर में खत्म कर लिया गया है।”

Beauty meets grunge under dark clouds

0
https://mumbainews.live/
https://mumbainews.live/

Actress Anisha Victor : Beauty meets grunge under dark clouds

It was about to pour, but that didn’t stop her from her photoshoot on a faraway farm besides abandoned old cars.

https://mumbainews.live/
https://mumbainews.live/

Actress Anisha Victor had decided to do some casual pictures in a pink and white polka-dot dress that day — she even painted her toenails pink. But nature had other plans. As soon as she reached the outskirts of the farm, the weather began to change. Dark clouds hovered and her photographer wondered how he would save his camera if it rained heavily. But since Anisha was all ready for the shoot, the photographer decided to take the chance too.

https://mumbainews.live/
https://mumbainews.live/

Anisha posed in the backdrop of the grunge look of old abandoned cars as the subdued natural light just turned out to be perfect. The mood was relaxed and the results cool… with Anisha donning a dreamy look which kinda went perfect with the location and weather. Check out the pics for yourself.

For the uninitiated, Anisha Victor made a striking debut in Viacom Motion Pictures’ horror thriller The House Next Door, playing the character of a possessed girl to critical acclaim. Currently, she is being talked about for her lead role as a teenybopper in the Goldie Behl-directed web series REJCTX on Zee5.

वैक्सीन का इंतजार कर रहे भारत के लोगों के लिए राहत की खबर

0
https://mumbainews.live/
https://mumbainews.live/

इस समय भारत ही नहीं, पूरी दुनिया को कोरोना वैक्सीन का बेसब्री से इंतजार है। इस बीच वैक्सीन का इंतजार कर रहे भारत के लोगों के लिए राहत की खबर है। जी हां…  अगले 73 दिनों के अंदर भारत को कोरोना का टीका कोविशील्ड मिलने के पूरे-पूरे चांस बन गए हैं। यह बात खुद सीरम इंस्टिट्यूट के अधिकारी ने कही है। आप सोच रहे हैं कि इसकी कीमत बहुत ज्यादा होगी तो आप इसकी टेंशन भी छोड़ दीजिए क्योंकि यह फ्री लगाया जाएगा।

सीरम इंस्टिट्यूट ऑफ इंडिया (SII) के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया, ‘सरकार ने हमें एक विशेष निर्माण प्राथमिकता लाइसेंस दिया है और ट्रायल प्रोटोकॉल की प्रक्रिया को तेज कर दिया गया है जिससे 58 दिनों में ट्रायल पूरा किया जा सके। इसके तहत फाइनल फेज (तीसरा चरण) में ट्रायल का पहला डोज आज से दिया गया है। दूसरा डोज 29 दिनों के बाद दिया जाएगा। फाइनल ट्रायल डेटा दूसरा डोज दिए जाने के 15 दिनों के बाद आएगा। इस अवधि के बाद हम कोविशील्ड को बाजार में लाने की योजना बना रहे हैं।’

इससे पहले, तीसरे चरण के परीक्षण में कम से कम 7-8 महीनों का वक्त लगने की उम्मीद थी। 22 अगस्त से, 17 केंद्रों पर 1600 स्वयंसेवकों पर परीक्षण हो रहा है, यानि की हर केंद्र पर करीब 100 स्वयंसेवकों पर परीक्षण जारी है।

वहीं, सूत्रों ने बताया, वैक्सीन सीरम इंस्टीट्यूट की संपत्ति होगी, क्योंकि कंपनी ने इसे भारत और 92 अन्य देशों में बेचने और इसके अधिकार खरीदने के लिए एस्ट्रा जेनेका के साथ एक विशेष समझौता किया है।

केंद्र सरकार ने पहले ही इस बात के संकेत दिए हैं कि वह एसआईआई से स्वयं ही वैक्सीन को खरीदेगी और नागरिकों को मुफ्त में इसकी खुराक दी जाएगी। केंद्र ने अगले साल जून तक सीरम इंस्टीट्यूट से 130 करोड़ भारतीय नागरिकों के लिए 68 करोड़ खुराक की मांग की है।

vaccine

बता दें कि ऑक्सफर्ड यूनिवर्सिटी और एस्ट्रा जेनेका इस कोविशील्ड टीके को बना रहे हैं। भारत में ऑक्सफर्ड यूनिवर्सिटी के टीके को दूसरे और तीसरे चरण के ट्रायल की मंजूरी मिल चुकी है। सायरस पूनावाला की कंपनी सीरम इंस्टिट्यूट ही ऑक्सफर्ड यूनिवर्सिटी के इस टीके का प्रोडक्शन का काम देख रही है।

केंद्रीय स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्री डॉ. हर्षवर्धन ने भी कहा है कि देश के वैज्ञानिक कोरोना की वैक्सीन बनाने में सफलतापूर्वक आगे बढ़ रहे हैं और उम्मीद है कि दो माह में ट्रायल पूरा हो जाएगा। वैक्सीन इसी साल लोगों को मिल जाएगी। क्लीनिकल ट्रायल अंतिम चरण में है और तीन व्यक्ति क्लीनिकल टेस्ट के तीसरे चरण में भी पहुंच चुके हैं। उन्होंने कहा कि कोरोना वैक्सीन बनाने के लिए करीब 150 से ज्यादा लोगों पर अलग-अलग फेज में ट्रायल चल रहा है। 26 लोगों पर क्लीनिकल ट्रायल शुरू हो चुका है। इसमें से भी तीन लोग क्लीनिकल ट्रायल के थर्ड फेस में पहुंच गए हैं। भारत इन ट्रायल में सफलतापूर्वक आगे बढ़ रहा है और उम्मीद है कि अगले दो माह में ट्रायल पूरा हो जाएगा। उन्होंने कहा कि इसी साल भारत वैक्सीन देश के लोगों को उपलब्ध करा देगा।

YouTube, Web site for sharing videos

0
https://mumbainews.live/#
https://mumbainews.live/#

YouTubeWeb site for sharing videos

YouTubeWeb site for sharing videos. It was registered on February 14, 2005, by Steve Chen, Chad Hurley, and Jawed Karim, three former employees of the American e-commerce company PayPal. They had the idea that ordinary people would enjoy sharing their “home videos.” The company is headquartered in San Bruno, California.

The immense growth in traffic at YouTube created its own set of problems. The company continually had to purchase more computer equipment and more broadband connections to the Internet. In addition, YouTube was forced to allocate more financial resources for potential litigation, as many media companies discovered that some of the videos uploaded to YouTube contained copyrighted material. With limited success in commercializing its Web site or containing its growing costs, YouTube began looking for a buyer.

In 2005 the American search engine company Google Inc. had launched a video service, Google Video, but it failed to generate much traffic, and Google was prompted to purchase YouTube for $1.65 billion in stock in November 2006. Rather than merging the Web sites, however, Google continued YouTube’s operation as before. To reduce the risk of copyright-infringement lawsuits, Google negotiated deals with a number of entertainment companies that would allow copyrighted video material to appear on YouTube and would give YouTube users the right to include certain copyrighted songs in their videos. It also agreed to remove tens of thousands of copyrighted video files from YouTube. In November 2008 Google reached an agreement with Metro-Goldwyn-Mayer, Inc. (MGM), to show some of the studio’s full-length movies and television shows, the broadcasts being free to watch, with advertisements running alongside the programs.

Indian girls should learn sword fighting and Nunchak: actress Yaaneea

0

Indian girls should learn sword fighting and Nunchak: actress Yaaneea Bharadwaj

On the eve of Independence Day 2020, actress Yaaneea Bharadwaj of Excel Entertainment/Zoya Akhtar’s ‘Made in Heaven’ fame has urged both urban and rural Indian girls to learn self defence techniques such as Nunchaku (Nunchak) and Sword fighting if they want to stay safe and fit while chasing their dreams and ambitions. Yaaneea is a rare actress who practices Nunchak and sword fighting in her hometown in Himachal Pradesh where she is stationed during the lockdown. In fact, Yaaneea got a role in a TVC with Hritihik Roshan because of her Nunchak skill and expertise.

Yaaneeasword.jpegYaaneea says, “As an actress aspiring for world cinema and international entertainment projects, I wanted to dare to do something different – nunchucks and swords excites me .. I feel I am connected to them and I feel strong. I love practising with sword and Nunchak to remain fighting fit. And all Indian girls in urban and rural India should learn and practice them. In fact, some villagers in HP gave me a rare historic artefact sword to practice.” She add, “As an actress I can position myself differently. Nowadays, international warrior series such as ‘Cursed’ and ‘The Witcher’ are on top of the charts and I want to become the first Indian actress with sword fighting capabilities to get a role in such prestigious global projects.” It’s important to point out that due to her Himalayan descent and origins, Yaaneea has a rare international look and recently eminent photographer Vikram Bawa did a photoshoot featuring her.
Yaaneeasword2.jpeg

During lockdown, Yaaneea also explored photography in Himachal and using herself as subject in various hues of light and dark, black and white.

Yaaneea nailed the character Sukhmani in the episode ‘A Marriage of Convenience’ in Excel Entertainment/ Zoya Akhtar’s Made in Heaven series on Amazon Prime Video. She played a Punjabi girl who desires to go and live in America but has to settle for a green card husband who suffers from impotency. Yaaneea’s jolly and carefree Punjabi character will remind you of Kareena Kapoor Khan from Jab We Met, where she essayed the role of Geet.

This is one Indian actress preparing for world cinema or series. And she has got very interesting projects about which she is tight lipped. Watch this space…

Personal life of Dhoni ?

0
mumbai news
mumbai news

Personal life of Dhoni ?

Dhoni married Sakshi Singh Rawat, his schoolmate in DAV Jawahar Vidya Mandir,
Shyamali.unreliable source?]a native of Dehradun, Uttarakhand,
on 4 July 2010. At the time of their marriage,
she was studying hotel management and was working as a trainee at the Taj Bengal, Kolkata.
After the retirement of Sakshi’s father from his tea growing business,
their family shifted to their native place, Dehradun.

The wedding took place one day after the couple got engaged.
According to Bollywood actress Bipasha Basu, a close friend of Dhoni,
the wedding was planned for months and was not a spur of the moment
decision. Dhoni became a father on 6 February 2015 to a baby girl named Ziva. At the time of her birth,  Dhoni was in Australia as the captain of Indian team with
2015 Cricket World Cup only a week to kick off.
He decided not to travel back to India and was famously quoted
saying that “I am on national duty, other things can wait”

करिश्माई खिलाड़ी महेंद्र सिंह धोनी 2021 और 2022 इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) में फ्रेंचाइजी का हिस्सा रहेंगे

0
https://mumbainews.live/?p=8408
https://mumbainews.live/?p=8408

 

करिश्माई खिलाड़ी महेंद्र सिंह धोनी 2021 और 2022 इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) में फ्रेंचाइजी का हिस्सा रहेंगे ?

चेन्नई सुपरकिंग्स के मुख्य कार्यकारी अधिकारी (सीईओ) कासी विश्वनाथन को लगता है कि उनके करिश्माई खिलाड़ी महेंद्र सिंह धोनी 2021 और 2022 इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) में फ्रेंचाइजी का हिस्सा रहेंगे।

धोनी पिछले साल विश्व कप सेमीफाइनल के बाद से प्रतिस्पर्धी क्रिकेट नहीं खेले हैं और 39 वर्षीय खिलाड़ी के आगामी आईपीएल से प्रतिस्पर्धी क्रिकेट में वापसी की उम्मीद है जो 19 सितंबर से 10 नवंबर तक संयुक्त अरब अमीरात में खेला जायेगा।

विश्वनाथन ने इंडियाटुडे डॉट इन से कहा, ‘‘हमें एम एस धोनी के दोनों (2020 और 2021 आईपीएल) में हिस्सा होने की उम्मीद है और शायद इसके अगले साल 2022 में भी। ’’

उन्होंने कहा, ‘‘मुझे मीडिया से ही अपडेट मिल रहा है कि वह झारखंड में इंडोर नेट में ट्रेनिंग कर रहे हैं। लेकिन हमें कप्तान के बारे में चिंता करने की जरूरत नहीं है। हम उसके बारे में बिलकुल चिंता नहीं करते। ’’

विश्वनाथन ने कहा, ‘‘वह अपनी जिम्मेदारियों को जानता है और वह अपनी और टीम की देखभाल कर लेगा। ’’

इंडिया सीमेंट्स के उपाध्यक्ष और प्रबंध निदेशक और चेन्नई सुपरकिंग्स (सीएसके) फ्रेंचाइजी के मालिक एन श्रीनिवासन ने जनवरी में कहा था कि धोनी को 2021 आईपीएल की नीलामी में टीम द्वारा बरकरार रखा जायेगा।

पिछले साल विश्व कप के बाद से धोनी के भविष्य को लेकर अटकलों का दौर जारी था क्योंकि उन्हें भारतीय क्रिकेट बोर्ड ने केंद्रीय अनुबंध नहीं दिया था।

धोनी को अपने गृहनगर रांची में झारखंड राज्य क्रिकेट संघ के इंडोर स्टेडियम में अभ्यास करते हुए देखा गया था।

सीएसके ने अपने बेस में 16 से 20 अगस्त तक छोटा सा ट्रेनिंग शिविर लगाने की योजना बनायी है। टीम के 21 अगस्त को यूएई रवाना होने की उम्मीद है और विश्वनाथन ने पुष्टि की कि सभी खिलाड़ी 14 अगस्त को चेन्नई में इकट्ठा होंगे।

तेंदुलकर ने धोनी को शुभकामनाएं देते हुए ट्वीट किया, ‘‘भारतीय क्रिकेट में आपका योगदान बहुत बड़ा है

0
https://mumbainews.live/
https://mumbainews.live/

तेंदुलकर ने धोनी को शुभकामनाएं देते हुए ट्वीट किया, ‘‘भारतीय क्रिकेट में आपका योगदान बहुत बड़ा है

महान बल्लेबाज सचिन तेंदुलकर और भारतीय टीम के कप्तान विराट कोहली की अगुआई में क्रिकेट जगत ने दो बार के विश्व कप विजेता पूर्व कप्तान महेंद्र सिंह धोनी को दूसरी पारी के लिए शुभकामनाएं दी जिन्होंने शनिवार को अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट को अलविदा कहकर पिछले एक साल से उनके भविष्य को लेकर लग रही अटकलों पर विराम लगा दिया ।

धोनी ने अपने इंस्टाग्राम पर लिखा ,‘‘ अब तक आपके प्यार और सहयोग के लिये धन्यवाद । शाम सात बजकर 29 मिनट से मुझे रिटायर्ड समझिये ।’’

तेंदुलकर ने धोनी को शुभकामनाएं देते हुए ट्वीट किया, ‘‘भारतीय क्रिकेट में आपका योगदान बहुत बड़ा है महेंद्र सिंह धोनी। एक साथ 2011 विश्व कप जीतना मेरे जीवन का सर्वश्रेष्ठ लम्हा है। आपको और आपके परिवार को आपकी दूसरी पारी के लिए शुभकामनाएं।’’

भारतीय कप्तान के रूप में धोनी की जगह लेने वाले कोहली ने कहा कि इस पूर्व कप्तान ने देश के लिए जो किया है उसे हमेशा याद रखा जाएगा।

कोहली ने ट्वीट किया, ‘‘सभी क्रिकेटरों को एक दिन अपनी यात्रा का अंत करना होता है लेकिन जब आप किसी को इतने करीब से जानते हो और वह इस फैसले की घोषणा करता है तो आप अधिक भावुक हो जाते हो। आपने देश के लिए जो किया वह हमेशा सभी के दिलों में रहेगा।’’

भारतीय टीम के मुख्य कोच रवि शास्त्री ने ट्वीट किया, ‘‘उनकी भरपाई करना आसान नहीं होगा। आपके साथ ड्रेसिंग रूम साझा करना और आपको काम में बेहद पेशेवर के रूप में देखना सम्मान की बात रही। इसकी कोई बराबरी नहीं है। लुत्फ उठाएं।’’

पूर्व भारतीय कप्तान अनिल कुंबले ने धोनी को शुभकामनाएं देते हुए लिखा, ‘‘शानदार अंतरराष्ट्रीय करियर के लिए महेंद्र सिंह धोनी को बधाई। आपके साथ खेलना सम्मान की बात रही। आपका धैर्यवान रवैया और कप्तान के रूप में आपने जो गौरवपूर्ण लम्हे दिए उन्हें हमेशा याद रखा जाएगा। आपको शुभकामनाएं। ’’

अपने चुटीले अंदाज के लिए मशहूर भारत के पूर्व सलामी बल्लेबाज वीरेंद्र सहवाग ने लिखा, ‘‘अब ऐसा खिलाड़ी होना, मिशन इंपॉसिबल है। ना कोई है, ना कोई था, ना कोई होगा धोनी के जैसा। खिलाड़ी आएंगे और जाएंगे लेकिन उसके जितना धैर्यवान नहीं होगा। धोनी इस तरह से लोगों से जुड़ा कि वह कई क्रिकेट प्रेमियों के लिए परिवार के सदस्य की तरह था। ओम फिनिशाय नम:। ’’

स्टार भारतीय आलराउंडर रविंद्र जडेजा ने ट्वीट किया, ‘‘बड़ा भाई, मेंटर, कप्तान और इससे भी बढ़कर खेल का महान खिलाड़ी। कप्तान आपसे बहुत कुछ सीखा। खेल को आपकी कमी खलेगी।’’

पूर्व भारतीय तेज गेंदबाज जहीर खान ने लिखा, ‘‘ऐसा कप्तान जिसने अपने खिलाड़ियों को पूरा उपयोग किया। आपके साथ गेंदबाजी करते हुए जो स्वतंत्रता मिली उसका लुत्फ उठाया। आपको दूसरी पारी के लिए शुभकामनाएं महेंद्र सिंह धोनी।’’

स्टार भारतीय स्पिनर रविचंद्रन अश्विन ने ट्वीट किया, ‘‘लीजेंड ने हमेशा की तरह अपनी शैली में संन्यास लिया। महेंद्र सिंह धोनी आपको देश के लिए सब कुछ दिया। चैंपियन्स ट्रॉफी जीत, 2011 विश्व कप और चेन्नई आईपीएल खिताब, ये जीत हमेशा मेरी यादों में रहेंगी। भविष्य के लिए शुभकामनाएं।’’

इंग्लैंड के पूर्व स्टार बल्लेबाज और अब कमेंटेटर केविन पीटरसन ने रिटायर खिलाड़ियों के क्लब में धोनी का स्वागत किया। उन्होंने लिखा, ‘‘रिटायरमेंट क्लब में स्वागत है महेंद्र सिंह धोनी। क्या जादुई करियर रहा।’’

भारत के पूर्व सलामी बल्लेबाज और अब लोकसभा सदस्य गौतम गंभीर ने ट्वीट किया, ‘‘”भारत ए” से “भारत” तक हमारी यात्रा प्रश्नवाचक चिन्ह, अल्पविराम, रिक्तता और विस्मयादिबोधक से भरी रही है। अब जब आपने अपने अध्याय में पूर्ण विराम लगा दिया है तो मैं आपको अनुभव से बता सकता हूं कि नया चरण रोमाचंक होगा और यहां डीआरएस की कोई सीमा नहीं होगी। बेहतरीन खेले महेंद्र सिंह धोनी।’’

पूर्व भारतीय स्पिनर हरभजन सिंह ने ट्वीट किया, ‘‘महानतम विकेटकीपर बल्लेबाज, कप्तान महेंद्र सिंह धोनी। मैं भविष्य में आपकी खुशियों की कामना करता हूं। मैदान पर सभी तरह के शानदार योगदान और यादों के लिए शुक्रिया। बेहतरीन क्रिकेट करियर के लिए बधाई… जल्दी ही आपको पीली जर्सी में देखेंगे, चेन्नई आईपीएल।’’

भारत के सलामी बल्लेबाज शिखर धवन ने लिखा, ‘‘कप्तान। नेतृत्वकर्ता। लीजेंड। देश के लिए आपने जो किया उसके लिए शुक्रिया माही भाई।’’

पाकिस्तान के पूर्व तेज गेंदबाज शोएब अख्तर ने भी ट्वीट करते हुए लिखा, ‘‘महेंद्र सिंह धोनी ने अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट को अलविदा कहा। उसके बिना क्रिकेट की कहानी कभी पूरी नहीं होगी। जल्द ही वीडियो लेकर आऊंगा। क्या महान खिलाड़ी।’’

पाकिस्तान के पूर्व कप्तान शाहिद अफरीदी ने धोनी को महानतम कप्तानों में से एक बताते हुए ट्वीट किया, ‘‘भारत क्रिकेट के वास्तविक महान खिलाड़ियों में से एक और महानतम कप्तानों में से एक, शानदार करियर के लिए बधाई महेंद्र सिंह धोनी। भविष्य के लिए शुभकामनाएं।’’

पाकिस्तान के एक अन्य पूर्व कप्तान रमीज राजा ने ट्वीट किया, ‘‘महेंद्र सिंह धोनी ने अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट को अलविदा कहा। शानदार कप्तान, शानदार रिकॉर्ड, मनोरंजन करने वाला शानदार खिलाड़ी और डीआरएस पर फैसला करने में दुनिया में सर्वश्रेष्ठ लेकिन इन सबसे अधिक महेंद्र सिंह धोनी को भारतीय क्रिकेट के यादगार लम्हों में सबसे आगे रहने के लिए याद किया जाएगा।’’

धोनी ने इंस्टाग्राम पर लिखा ,‘‘ शाम सात बजकर 29 मिनट से मुझे रिटायर्ड समझिये ।’’

0
https://mumbainews.live/
https://mumbainews.live/

धोनी ने इंस्टाग्राम पर लिखा ,‘‘ शाम सात बजकर 29 मिनट से मुझे रिटायर्ड समझिये ।’’

नयी दिल्ली, : चार मिनट के जज्बाती वीडियो के नेपथ्य में बजते ‘मैं पल दो पल का शायर हूं , पल दो पल मेरी कहानी है ’ गीत के बीच अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट से विदा लेने वाले महेंद्र सिंह धोनी की कहानी कुछ पलों की नहीं बल्कि क्रिकेट के इतिहास में हमेशा के लिये दर्ज होने वाली कामयाबी की गाथा है ।

रांची जैसे छोटे शहर से निकलकर महानगरों में सिमटे क्रिकेट की चकाचौंध भरी दुनिया में अपना अलग मुकाम बनाने वाले धोनी ने युवाओं को सपने देखने और उन्हें पूरा करने का हौसला दिया । दो विश्व कप जीतने वाले धोनी के कैरियर के आंकड़े बताते हैं कि इरादे मजबूत हो तो क्या हासिल किया जा सकता है ।

सफलता के शिखर पर पहुंचने के बाद एक दिन अचानक टेस्ट क्रिकेट को उन्होंने यूं ही अलविदा कह दिया था जब वह टेस्ट मैचों का शतक बनाने से दस मैच दूर थे ।

इसके पांच साल और सात महीने बाद 15 अगस्त को जब देश आजादी के 74 साल पूरे होने का जश्न मना रहा तो शाम को धोनी ने इंस्टाग्राम पर लिखा ,‘‘ शाम सात बजकर 29 मिनट से मुझे रिटायर्ड समझिये ।’’

तनाव और दबाव के बीच कभी विचलित नहीं होने वाले धोनी ही ऐसा कर सकते थे

देश को 28 बरस बाद वनडे विश्व कप जिताने के बाद निर्विकार भाव से पवेलियन का रूख करने वाला कप्तान बिरला ही होता है ।

अपने जज्बात कभी चेहरे पर नहीं लाने वाले धोनी के निजी फैसले यूं ही अनायास आये हैं । उन्हें जानने वाले भी ये दावा नहीं कर सकते कि उनके भीतर क्या चल रहा है । क्रिकेट के मैदान पर उनका जीवन खुली किताब रहा है लेकिन निजी जिंदगी के पन्ने उन्होंने कभी नहीं खोले जिसमें वह सोचते और फैसले लेते आये हैं ।

विश्व कप सेमीफाइनल में रन आउट होने के बाद से पिछले एक साल में उन्हें लेकर तरह तरह की अटकलें लगी लेकिन उन्होंने चुप्पी नहीं तोड़ी ।

धोनी की कहानी सिर्फ क्रिकेट की कहानी नहीं बल्कि क्रिकेट की दुनिया में आये बदलाव की भी कहानी है । बड़े शहरों में क्रिकेट खेलते लड़कों को देखकर हाथ में बल्ला या गेंद थामने की इच्छा रखने लेकिन उन्हें पूरा कर पाने का हौसला नहीं रखने वाले अपनी पीढी के लाखों युवाओं के वह रोलमॉडल बने ।

परंपरा से हटकर सोचना और हुनर पर भरोसा रखना उनकी खासियत रही । यही वजह है कि टी20 विश्व कप 2007 फाइनल में उन्होंने जोगिंदर शर्मा को आखिरी ओवर थमाया जिनका कोई नाम भी नहीं जानता था । उस मैच ने शर्मा को हीरो बना दिया ।

धोनी उस शहर से आते हैं जहां युवाओं का लक्ष्य आईआईटी, जीई या यूपीएससी की तैयारी करना रहा करता था लेकिन उनके बचपन के कोच केशव रंजन बनर्जी के अनुसार धोनी की कहानी ने यह सोच बदल दी ।

भारतीय क्रिकेट उनका सदैव ऋणी रहेगा ।

मीडिया से उनका खट्टा मीठा रिश्ता रहा है । कभी किसी को कोई ‘एक्सक्लूजिव’ उनसे नहीं मिला और आम प्रेस कांफ्रेंस में भी सवाल का जवाब वह कई तरह से देने में माहिर थे । विश्व कप 2015 सेमीफाइनल मैच के बाद उन्होंने कहा था ,‘‘ मैं हमेशा बाबा (तत्कालीन टीम मैनेजर) से कहता हूं कि मीडिया आपके काम से खुश है तो इसका मतलब है कि आप अपना काम ठीक से नहीं कर रहे ।’’

आईपीएल स्पाट फिक्सिंग मामले में धोनी की टीम चेन्नई सुपर किंग्स का नाम आने के बाद मुंबई में 2013 में चैम्पियंस ट्राफी के लिये टीम की रवानगी से पहले उन पर सवालों की बौछार होती रही लेकिन गरिमामय मुस्कान से उन्होंने जवाब दिया ।

कप्तान विराट कोहली ने कहा था कि उनके कप्तान हमेशा धोनी रहेंगे और इस धुरंधर की मौजूदगी ने विराट का काम हमेशा आसान किया ।

भारतीय क्रिकेट में कई महान खिलाड़ी हुए और आगे भी होंगे लेकिन अपनी शर्तों पर अपने कैरियर की दिशा तय करने वाले ‘कैप्टन कूल ’ धोनी जैसा कप्तान और खिलाड़ी सदियों में एक पैदा होता है ।

भारत के सबसे सफल कप्तान और दो बार के विश्व कप विजेता के कैरियर की कुछ सुर्खियां

0
https://mumbainews.live/
https://mumbainews.live/

भारत के सबसे सफल कप्तान और दो बार के विश्व कप विजेता के कैरियर की कुछ सुर्खियां

महेंद्र सिंह धोनी ने अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट को अलविदा कह दिया । भारत के सबसे सफल कप्तान और दो बार के विश्व कप विजेता के कैरियर की कुछ सुर्खियां इस प्रकार हैं ।

दिसंबर 2004 : बांग्लादेश के खिलाफ चटगांव में वनडे के जरिये धोनी ने अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में पदार्पण किया ।

अक्टूबर 2005 : तेजी से रन बनाने के लिये बल्लेबाजी क्रम में ऊपर भेजे गए । अपनी दूसरी पारी में 145 गेंद में 183 रन बनाये । पांच मैचों की श्रृंखला भारत ने 3 . 0 से जीती और धोनी मैन आफ द सीरिज रहे ।

दिसंबर 2005 : धोनी ने चेन्नई में श्रीलंका के खिलाफ टेस्ट क्रिकेट में पदार्पण किया ।

सितंबर 2007 : धोनी ने राहुल द्रविड़ से वनडे क्रिकेट की कप्तानी ली ।

सितंबर 2007 : धोनी ने वनडे क्रिकेट में एक पारी में सबसे ज्यादा शिकार के एडम गिलक्रिस्ट के अंतरराष्ट्रीय रिकार्ड की बराबरी की । वह दक्षिण अफ्रीका में पहले टी20 विश्व कप में भारत के कप्तान बने । भारत ने फाइनल में पाकिस्तान को हराया । धोनी ने फाइनल का आखिरी ओवर जोगिंदर शर्मा जैसे अनुभवहीन गेंदबाज से डलवाया और यह मास्टरस्ट्रोक साबित हुआ ।

अगस्त 2008 : धोनी ने श्रीलंका में भारत को पहली द्विपक्षीय श्रृंखला में जीत दिलाई ।

अगस्त 2008 : धोनी को राजीव गांधी खेल रत्न पुरस्कार ।

नवंबर 2008 : धोनी भारत के टेस्ट कप्तान बने । उन्होंने नागपुर में आस्ट्रेलिया के खिलाफ चौथे टेस्ट में अनिल कुंबले से कप्तानी ली ।

दिसंबर 2008 : धोनी आईसीसी वर्ष के सर्वश्रेष्ठ वनडे क्रिकेटर बने ।

मार्च 2009 : धोनी की कप्तानी में भारत ने न्यूजीलैंड में पहली द्विपक्षीय वनडे श्रृंखला जीती ।

अप्रैल 2009 : धोनी को भारत का चौथा सर्वोच्च नागरिक सम्मान पद्मश्री मिला ।

दिसंबर 2009 : धोनी आईसीसी वर्ष के सर्वश्रेष्ठ वनडे क्रिकेटर का पुरस्कार लगातार दो बार जीतने वाले पहले खिलाड़ी बने ।

मई 2010 : धोनी की कप्तानी में चेन्नई सुपर किंग्स ने आईपीएल जीता ।

अप्रैल 2011 : धोनी ने श्रीलंका के खिलाफ विश्व कप फाइनल में 79 गेंद में 91 रन की नाबाद पारी खेली । भारत 28 साल बाद विश्व कप जीता । छक्के से जीत दिलाने वाले धोनी मैन आफ द मैच ।

मई 2011 : धोनी की कप्तानी ने सीएसके ने आईपीएल जीता ।

नवंबर 2011 : भारतीय प्रादेशिक सेना ने धोनी को मानद् लेफ्टिनेंट कर्नल बनाया ।

मार्च 2013 : धोनी 49 टेस्ट में 21वीं जीत दर्ज करके सौरव गांगुली का रिकार्ड तोड़कर भारत के सबसे सफल टेस्ट कप्तान बने ।

जून 2013 : भारत ने धोनी की कप्तानी में आईसीसी चैम्पियंस ट्राफी जीती ।

फरवरी 2013 :धोनी ने टेस्ट क्रिकेट में पहला दोहरा शतक जड़ा ।

मार्च 2013 : धोनी की कप्तानी में भारत ने आस्ट्रेलिया को घरेलू टेस्ट श्रृं,खला में 4 . 0 से हराया ।

अप्रैल 2018 : धोनी को पद्म भूषण ।

मई2018 : धोनी की कप्तानी में चेन्नई ने तीसरी बार आईपीएल जीता ।

सुरेश रैना ने अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट को अलविदा

0
https://mumbainews.live/
https://mumbainews.live/

सुरेश रैना ने अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट को अलविदा

नयी दिल्ली,: माइकल जोर्डन के साथ स्कॉटी पिप्पेन थे , लियोनेल मेस्सी के साथ आंद्रेस इनिएस्ता और इसी तरह महेंद्र सिंह धोनी के साथ कैरियर के तमाम उतार चढाव के साथी रहे सुरेश रैना ने अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट को अलविदा कहने के फैसले में भी उनका साथ दिया ।

अपने पसंदीदा कप्तान और मेंटर धोनी का अनुसरण करते हुए रैना ने शनिवार को अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट से संन्यास लेने की घोषणा की ।

धोनी ने अपने इंस्टाग्राम पर अपने लाखों प्रशंसकों के लिए लिखा ‘अब मुझे रिटायर्ड समझा जाए’ जिसके कुछ ही मिनटों बाद रैना ने भी संन्यास की घोषणा कर दी।

रैना ने इंस्टाग्राम पर लिखा, ‘‘माही (महेंद्र सिंह धोनी) आपके साथ खेलना शानदार रहा। पूरे गर्व के साथ इस यात्रा में मैं आपका साथ देता हूं। धन्यवाद भारत। जय हिंद।’’

तैंतीस साल के रैना दुनिया के उन चुनिंदा खिलाड़ियों में शामिल हैं जिन्होंने खेल के तीनों प्रारूपों में शतक जड़े हैं। उन्होंने 18 टेस्ट, 226 वनडे और 78 टी20 अंतरराष्ट्रीय मैचों में भारत का प्रतिनिधित्व किया। उन्होंने टेस्ट में 768, वनडे में 5615 और टी20 में 1605 रन बनाये । उन्होंने वनडे में 36 और टेस्ट तथा टी20 में 13 . 13 विकेट भी लिये ।

रैना ने 2011 विश्व कप में भारत की खिताब जीत के दौरान आस्ट्रेलिया के खिलाफ नाबाद 34 रन की महत्वपूर्ण नाबाद पारी खेली थी हालांकि युवराज सिंह का हरफनमौला प्रदर्शन ही लोगों के जेहन में रहा । सेमीफाइनल में उन्होंने नाबाद 36 रन बनाये लेकिन उस मैच में सभी को सचिन तेंदुलकर के 85 रन याद रहे । अपने कैरियर में रैना अधिकतर सहायक की ही भूमिका में रहे ।

सुरेश रैना ने अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट को अलविदा

लखनऊ खेल कॉलेज के इस लड़के में जहां ग्रेग चैपल को प्रतिभा दिखी तो धोनी को पता था कि उसका इस्तेमाल कैसे करना है ।उन्हें पता था कि उपमहाद्वीप में रैना जैसा आक्रामक खिलाड़ी उनके लिये ट्रंपकार्ड हो सकता है । चेन्नई सुपर किंग्स के लिये लगातार अच्छा खेलने से वह एक बेहतरीन अंतरराष्ट्रीय क्रिकेटर भी बने ।

विश्व कप 2015 के बाद हालांकि उनके फार्म में गिरावट आई और 2017 में वह योयो टेस्ट पास नहीं कर सके । इंग्लैंड के खिलाफ 2018 में उन्होंने सीमित ओवरों की श्रृंखला खेली और लाडर्स में 46 रन भी बनाये । उस मैच में उनके 63 गेंद में 46 और धोनी के 59 गेंद में 37 रन चर्चा का विषय रहे ।

हमेशा धोनी के विश्वासपात्र रहे रैना को चेन्नई सुपर किंग्स के प्रशंसक ‘चिन्ना थाला ’ कहते हैं जबकि उनके लिये ‘थाला’ धोनी है ।

Prime Minister Narendra Modi on Saturday issued a veiled warning to China and Pakistan

0
https://mumbainews.live/
https://mumbainews.live/

Prime Minister Narendra Modi on Saturday issued a veiled warning to China and Pakistan

New Delhi, Aug 15 : Prime Minister Narendra Modi on Saturday issued a veiled warning to China and Pakistan saying whoever challenged the country’s sovereignty got a befitting reply as he made a push for ‘Aatmanirbhar Bharat’ with a Make for World’ call and announced a National Digital Health Mission.

In his Independence Day address to the nation from the ramparts of Red Fort for the seventh consecutive time, Modi, 69, also said mass production of vaccine for COVID-19 will begin in India once scientists give their nod and a roadmap was ready to ensure it reaches everyone in the country in the shortest possible time. Three vaccine candidates are in different stages of trials in the country, he added.

The prime minister asserted that the COVID-19 pandemic cannot halt the country’s march towards self-reliance, and presented a broad outline for spurring India’s growth in diverse sectors.

Citizens will be issued a health card that will have all their medical information under the digital health mission that will revolutionise healthcare in India, he said.

The annual Independence Day event at the main venue Red Fort which traditionally witnessed a bustling crowd was scaled down this year in keeping with prescribed COVID-19 safety protocols that also included social distancing for the visitors including ministers and diplomats.

Prime Minister Narendra Modi on Saturday issued a veiled warning to China and Pakistan

During his 86-minute address on the country’s 74th Independence Day, Modi also underscored his government’s commitment to holding assembly polls in centrally-administered Jammu and Kashmir after the ongoing delimitation exercise is over, and stated a new era of development has begun in the union territory after Article 370 was scrapped a year ago.

Modi, who was dressed in his customary ‘kurta pyjama’ and sported a saffron and cream ‘safa’, said the armed forces have given a befitting reply to those challenging the country’s sovereignty “from LoC to LAC”, in a veiled reference to Pakistan and China.

“From LoC (Line of Control) to LAC (Line of Actual Control), anyone who casts an eye on the sovereignty of the country, the armed forces have responded in the language they understand,” Modi said.

“Whether it is terrorism or expansionism, India is fighting both with determination.

Modi’s comments came amid India’s bitter border row with China along the LAC in eastern Ladakh and rise in incidents of ceasefire violations along the LoC with Pakistan in the last few months.

Referring to the Galwan Valley clashes in eastern Ladakh in June, the prime minister said respect for India’s sovereignty is supreme and the world has seen in Ladakh what its brave jawans can do to maintain this resolve.

“I salute all those brave soldiers from the Red Fort,” Modi said, adding the whole country is united in protecting the sovereignty of the country. Twenty Indian army personnel were killed during the clashes on June 15. The Chinese side also suffered casualties but it is yet to give out the details

Besides the announcement of the launch of a national digital health mission, Modi said all the six lakh villages in the country will be connected with optical fibres in 1,000 days to improve digital connectivity for the rural masses.

“Every Indian will be given a health ID, which will work as each Indian’s health account,” Modi said, adding it would ease problems faced by citizens in getting healthcare access.

“Every test, disease and diagnosis, and medical reports along with medicines will be stored in every citizen’s health ID. These health issues will be resolved through this National Digital Health Mission,” he added.

The prime minister dwelt at length on his ‘Aatmanirbhar Bharat’ (self-reliant India) campaign as he gave a call for reducing imports and pushing exports of finished products in place of raw material, saying the country will have to move forward with the mantra of ‘Make in India’ as well as ‘Make for World’.

‘Aatmanirbhar Bharat’ is no longer merely a word but has become a mantra and captured people’s imagination, he said.

Unveiling his vision, the prime minister said the goal is to make India a global manufacturing hub while a Rs 110 lakh crore pipeline of national infrastructure projects is being created to boost the economy and create jobs.

India received record foreign investment in the last fiscal when FDI rose 18 per cent, he said, adding companies were looking to invest in the nation even during the corona crisis.

“How long can the raw material be sent out of our country and finished products imported?” he asked. “Aatmanirbhar Bharat is not only about cutting imports but also raising our capacity, creativity and skills.

“Today world’s biggest companies are looking at India,” he said. Now along with ‘Make in India’, we will have to move ahead with the mantra of ‘Make for World’.”

The prime minister cited the example of India during the coronavirus crisis becoming an export surplus nation in the manufacturing of N-95 face masks, PPE kits and ventilators.

Hailing the ‘corona warriors’, including doctors, nurses, paramedical staff and sanitation workers who have been continuously fighting the COVID-19 pandemic, he said the country will achieve victory over coronavirus with the resolve of its over 130 crore citizens.

Asia’s third-largest economy’s main focus will be the creation of a pipeline of national infrastructure projects worth more than Rs 110 lakh crore, Modi said. “About 7,000 projects in different sectors have been identified. This will be a type of infrastructure revolution.”

Stating that working in silos in the infrastructure space has ended, he said a large scheme to connect the country through a multi-modal connectivity infrastructure is ready.

The National Infrastructure Pipeline (NIP) project will play a crucial role in pulling the country out of the impact of COVID-19, he said.

On digital connectivity for rural masses, Modi said only five dozen village panchayats were connected with optical fibre in 2014. This has increased to 1.5 lakh in the last five years.

“In the coming 1,000 days (less than 3 years), all the 6 lakh villages in the country will be connected with optical fibre network.

Vocal for local, re-skill and up-skill campaigns will be the main pillars, he said.

“I am confident that India will realise this dream. I am confident of the abilities, confidence and potential of my fellow Indians. Once we decide to do something, we do not rest until we achieve that goal,” he added.

The prime minister said India’s policies, processes and products should be the best in the world and only then the idea of “shresth Bharat” (best India) will be realised.

On foreign policy issues, Modi said today neighbours are not only those with whom India shares its geographical boundaries but also those with whom “our hearts meet”.

While talking about the need for overall economic growth and making the country self reliant, Modi, at the same time, said humanity must retain a central role in this process.

He said many concerns are raised about the challenges for a self-reliant India, but asserted there are “crores of solutions” offered by the country’s citizens to “lakhs of challenges”.

Making a mention of the ground-breaking ceremony for the Ram temple in Ayodhya on August 5, Modi said the centuries-old issue has been resolved peacefully.

महाराष्ट्र पूरे देश में कोरोना संक्रमण और मौत के मामले में पहले स्थान पर है।

0
mumbainews.live/
mumbainews.live/

महाराष्ट्र पूरे देश में कोरोना संक्रमण और मौत के मामले में पहले स्थान पर है।

मुंबई। देश में कोरोना महामारी से सबसे गंभीर रूप से प्रभावित महाराष्ट्र में पिछले 24 घंटों के दौरान 11,813 नये मामले सामने आने के बाद संक्रमितों की संख्या गुरुवार रात बढ़कर 5.60 लाख के पार पहुंच गई लेकिन राहत की बात यह है कि इस दौरान 9,115 मरीजों के स्वस्थ होने से संक्रमण से मुक्ति पाने वालों की संख्या भी 3.90 लाख से अधिक हो गयी।

आधिकारिक सूत्रों के अनुसार राज्य में अब तक 5,60,126 लोग इस महामारी की चपेट में आए हैं। इस दौरान 413 और लोगों की इससे मौत होने से मृतकों की संख्या बढ़कर 19,063 हो गयी है। राज्य में इस अवधि में स्वस्थ होने वालों की कुल संख्या 3,90,958 हो गयी है।

महाराष्ट्र पूरे देश में कोरोना संक्रमण और मौत के मामले में पहले स्थान पर है।

राज्य में मरीजों के स्वस्थ होने की दर आज आंशिक वृद्धि के साथ बढ़कर 69.79 फीसदी पहुंच गयी जो बुधवार को 69.63 प्रतिशत रही थी जबकि मरीजों की मृत्यु दर भी घटकर 3.40 प्रतिशत पर आ गई।

सूत्रों के मुताबिक राज्य में कुल सक्रिय मामलों की संख्या आज 1,49,798 रही जो बुधवार को 1,47,513 रही थी। यानी सक्रिय मामलों में 2,285 मरीजों की वृद्धि दर्ज की गयी जो बड़ी चिंता की बात है। सभी मरीजों का विभिन्न अस्पतालों में इलाज किया जा रहा है।

गौरतलब है कि महाराष्ट्र पूरे देश में कोरोना संक्रमण और मौत के मामले में पहले स्थान पर है।

देश के लिए जो महेंद्र सिंह धोनी किया है वह सभी के दिल में हमेशा रहेगा।” – विराट कोहली

0
https://mumbainews.live/
https://mumbainews.live/

देश के लिए जो महेंद्र सिंह धोनी किया है वह सभी के दिल में हमेशा रहेगा।” – विराट कोहली

टीम इंडिया के कप्तान विराट कोहली ने विकेटकीपर बल्लेबाज महेंद्र सिंह धोनी के अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट से संन्यास लेने पर अपनी प्रतिक्रिया देते हुए शनिवार को कहा कि उन्होंने देश के लिए जो किया है वो हमेशा सभी के दिलों में रहेगा।

भारत को अपनी कप्तानी में दो बार विश्व विजेता बनाने वाले धोनी ने शनिवार की शाम अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट से संन्यास लेने की घोषणा की। धोनी के संन्यास लेने के तुरंत बाद टीम इंडिया के ऑलराउंडर सुरेश रैना ने भी संन्यास लेने की घोषणा की।

विराट ने ट्वीट कर कहा, “हर क्रिकेटर को एक दिन अपनी यात्रा समाप्त करनी पड़ती है, लेकिन फिर भी जब कोई आपके बेहद करीब का व्यक्ति यह निर्णय लेता है तो आप भावना को और अधिक महसूस करते हैं। आपने देश के लिए जो किया है वह सभी के दिल में हमेशा रहेगा।”

देश के लिए जो महेंद्र सिंह धोनी किया है वह सभी के दिल में हमेशा रहेगा।” – विराट कोहली

https://mumbainews.live/
https://mumbainews.live/

उन्होंने कहा, “जो सम्मान मुझे आपसे मिला है वो हमेशा मेरे दिल में रहेगा। दुनिया ने उपलब्धियां देखी है, मैंने व्यक्ति को देखा है। सब कुछ के लिए धन्यवाद कप्तान।”

कप्तान ने रैना को भविष्य के लिए शुभकामनाएं देते हुए कहा, “शीर्ष करियर के लिए आपको बधाई भावेश। भविष्य के लिए गुड लक।”

दो बार के विश्व कप विजेता और भारत के सबसे सफल कप्तान धोनी के संन्यास का एलान

0

दो बार के विश्व कप विजेता और भारत के सबसे सफल कप्तान धोनी के संन्यास का एलान

नई दिल्ली। दो बार के विश्व कप विजेता और भारत के सबसे सफल कप्तानों में से एक महेंद्र सिंह धोनी ने स्वतंत्रता दिवस के दिन शनिवार को अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट से संन्यास लेने का एलान कर दिया। धोनी के संन्यास का एलान करने के कुछ देर बाद ही उनके साथी खिलाड़ी रहे सुरेश रैना ने भी अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट से संन्यास लेने की घोषणा कर दी

भारत के सबसे सफल विकेटकीपर बल्लेबाज धोनी ने इंस्टाग्राम पोस्ट पर यह एलान करते हुए कहा, “मेरे करियर में आप सबके प्यार और सहयोग का बहुत-बहुत शुक्रिया। आज शाम 7 बजकर 29 मिनट से आप मुझे रिटायर समझें।” धोनी टेस्ट क्रिकेट से पहले ही संन्यास ले चुके थे और पिछले साल इंग्लैंड में हुए वनडे विश्व कप के सेमीफाइनल में न्यूजीलैंड के हाथों भारत की हार के बाद उन्होंने कोई मैच नहीं खेला था। भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (बीसीसीआई) के अध्यक्ष सौरभ गांगुली और अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट परिषद (आईसीसी) ने धोनी को अपनी शुभकामनाएं दी हैं।

धोनी के आईपीएल के 13वें संस्करण में खेलने की उम्मीद है जिसके लिए वह रांची से चेन्नई पहुंच चुके हैं। चेन्नई में रविवार से चेन्नई सुपरकिंग्स का छह दिन कंडीशनिंग शिविर लगना है। तीन बार के आईपीएल विजेता धोनी चेन्नई टीम के कप्तान हैं। धोनी ने चेन्नई आने से पहले अपने गृहनगर रांची में कोरोना टेस्ट कराया था जिसकी रिपोर्ट नेगेटिव आने के बाद वह शुक्रवार को चेन्नई के लिए रवाना हुए थे।

दो बार के विश्व कप विजेता और भारत के सबसे सफल कप्तान धोनी के संन्यास का एलान

2007 में अपनी कप्तानी में पहला टी-20 विश्व कप जीतने वाले धोनी ने भारत को 28 साल के लम्बे अंतराल के बाद 2011 में एकदिवसीय विश्व चैंपियन बनाया था। भारत ने उनकी कप्तानी में आईसीसी चैंपियंस ट्रॉफी भी जीती है और टीम इंडिया उनकी कप्तानी में टेस्ट रैंकिंग में नंबर एक भी बनी थी और 600 दिनों तक नंबर एक रही थी। वह आईसीसी की तीनों ट्रॉफी जीतने वाले एकमात्र कप्तान हैं।

इंग्लैंड में पिछले साल हुए वनडे विश्व कप के बाद से ही लगातार धोनी के संन्यास की अटकलें चलती रही थीं लेकिन धोनी ने इन अटकलों पर कभी प्रतिक्रिया व्यक्त नहीं की थी और इस मुद्दे पर लगातार खामोश रहे थे। पिछले महीने सात जुलाई को 39 वर्ष के हुए धोनी ने अपने संन्यास का एलान करने के लिए स्वतंत्रता दिवस का दिन चुना और इंस्टाग्राम पर पोस्ट डालकर सबको चौंका दिया।

माही के नाम से मशहूर धोनी ने मार्च में अपनी टीम चेन्नई सुपर किंग्स के साथ आईपीएल की तैयारियां भी शुरू कर दी थीं लेकिन पहले लॉकडाउन के कारण चेन्नई ने अपना शिविर बंद किया और माही अपने गृहनगर रांची लौट गए थे। आईपीएल के अनिश्चितकाल के लिए स्थगित हो जाने के कारण धोनी के संन्यास को लगातार अटकलें लग रही हैं लेकिन धोनी ने इस मामले में गहन चुप्पी साध रखी थी। आईपीएल का 19 सितम्बर से 10 नवम्बर तक संयुक्त अरब अमीरात में आयोजन होना है और आईपीएल की तैयारियां शुरू होने से पहले ही धोनी ने एलान कर दिया कि अब से उन्हें रिटायर माना जाए।

दो बार के विश्व कप विजेता और भारत के सबसे सफल कप्तान धोनी के संन्यास का एलान

23 वर्ष की आयु में भारतीय क्रिकेट टीम के लिये पदार्पण करने वाले धोनी आईसीसी की तीनों विश्व प्रतियोगिताएं जीतने वाले दुनिया के एकमात्र कप्तान हैं और भारतीय क्रिकेट को नयी ऊंचाइयों पर ले जाने का श्रेय उन्हें जाता है। धोनी ने 2014 में ऑस्ट्रेलिया दौरे में मेलबोर्न टेस्ट के बाद टेस्ट क्रिकेट से संन्यास ले लिया था और जनवरी 2017 में उन्होंने विराट कोहली को वनडे और टी-20 की कप्तानी सौंप दी थी।

कोरोना खिलाफ तकनीक के साथ लड़ने वाला जीनियस गायम भरत कुमार

0
https://mumbainews.live/
https://mumbainews.live/

कोरोना खिलाफ तकनीक के साथ लड़ने वाला जीनियस

गयाना भरत कुमार ने एक वेब एप्लिकेशन डिज़ाइन किया जिसमें कोरोना लक्षणों की पहचान के लिए WHO और ICMR मानदंड पर प्रश्न दिए गए हैं
चूंकि महामारी में बहुत से लोग अपनी जान गंवा रहे हैं, इसलिए गायम भरत कुमार ने इस पर काम करने का फैसला किया। गुंटूर के 25 वर्षीय टेक जीनियस ने अपनी टीम के साथ C19 रक्षा नाम की एक वेबसाइट तैयार की। यह बहुमूल्य जानकारी देता है और लोगों की मदद करता है।

https://mumbainews.live/
https://mumbainews.live/

भारथ का मानना ​​है कि प्रौद्योगिकी टेक्नोलॉजी लोगों को वायरस को नियंत्रित करने में स्मार्ट मदद करेगी। कोरोना लक्षणों का परीक्षण घर पर C19 रक्षा का उपयोग करके किया जा सकता है। है एप्लीकेशन तीन लोगो ने बनाया है इसमें – भारतम गयम, शेशु कुमार, गणेश येरुवा – की टीम ने पूरे भारत के लोगों के लिए इसे उपलब्ध कराने के लिए वेब एप्लिकेशन तैयार किया और वे 12 स्वयंसेवकों के साथ इस परियोजना पर काम कर रहे हैं। यह केवल 2 मिनट के समय में 11 सवालों के जवाब देता है।

इस वेब एप्लिकेशन में 11 लक्षण और स्पर्शोन्मुख प्रश्न हैं, जिनमें “डब्ल्यूएचओ” और “आईसीएमआर” जैसे लक्षण लक्षणों की पहचान करने के लिए विनिर्देशन शामिल हैं। जैसे ही इन प्रश्नों का उत्तर हां / नहीं के रूप में दिया जाता है, इस आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस तकनीक का परिणाम तीन तरीकों से होगा: “कम जोखिम”, “मध्यम जोखिम”, “उच्च जोखिम” केवल दो सेकंड में।

जिन लोगों को “कम जोखिम” और “मध्यम जोखिम” मिला, वे वेबसाइट में सावधानियों का उल्लेख करते हैं। “हाई रिस्क” लोगों की जानकारी मेडिकल सर्विलांस टीमों तक पहुंच जाएगी। इस सॉफ्टवेयर के साथ, लोग घर से कोरोना के लक्षणों की जांच कर सकते हैं। घबराने की जरूरत नहीं। अब तक बहोत लोगों ने इस परीक्षण का प्रयास किया। इनमें से कुछ की हालत गंभीर बताई गई है।

https://mumbainews.live/
https://mumbainews.live/

एथिकल हैकिंग में कई पुरस्कार जीतने वाले भरत को पहली बार कम शैक्षणिक ग्रेड के कारण कई कॉलेजों ने खारिज कर दिया था। लेकिन, भरत सकारात्मक दिमाग के साथ आगे बढ़े और हैकिंग पर ध्यान केंद्रित करने लगे। “यह सब सफर नौवीं कक्षा में शुरू हुआ। जब मैं अपने बहनोई की प्रशंसा करता था, जो एक सॉफ्टवेयर इंजीनियर है, और मैं हमेशा कुछ ऐसा करना चाहता था जो मुझे चुनौतियां प्रदान करता हो।

वो आगे कहते है मैंने एथिकल हैकिंग के बारे में सुना और मुझे यह दिलचस्प लगा। मैंने इस पर शोध करना शुरू किया और मेरी यात्रा कैसे शुरू हुई, ”भरत कहते हैं, मै अब अपनी खुद की कंपनी चला रहे हु ।

भरत ने बिना रुके साइबर स्पेस मैराथन के लिए लिम्का बुक ऑफ़ रिकॉर्ड्स में रिकॉर्ड दर्ज किया और 2019 इसके माध्यम से सबका ध्यान खींचने में सफल रहे। इसके के अलावा, वह ग्लोबल यंग लीडर्स फैलोशिप और कर्मवीर चक्र अवार्ड, इंडिया स्टार यूथ आइकॉन अवार्ड, नेशनल यूथ आइकॉन अवार्ड और राष्ट्रीय गौरव सम्मान भी प्राप्त कर चुके हैं।

आपको बस इतना करना है कि अपने और दूसरों के लिए चीजों को आसान बनाने के लिए वेबसाइट http://www.c19raksha.in पर लॉग इन करें।

5 versatile actresses raring to go places

0
https://mumbainews.liv
https://mumbainews.liv

5 versatile actresses raring to go places

https://mumbainews.liv
https://mumbainews.liv

Bollywood is a beautiful place for actresses who wish to express themselves through emotions. And just like always, there are some supremely talented ones waiting in the wings to hit big time. We track five such actresses who have already made impressionable debuts and are now raring to go places.

1) Kiara Advani

https://mumbainews.liv
https://mumbainews.liv

Though the attractive Kiara Advani made her Bollywood debut with the 2014 film comedy Fugly, she had to wait for her first commercial success with a brief role in the 2016 sports biopic M.S. Dhoni: The Untold Story.

Born Alia Advani, Kiara stepped up her act starring in the Telugu political drama Bharat Ane Nenu (2018) and finally getting her first major role in the 2019 film Kabir Singh and the comedy Good Newwz. Both the films emerged big hits.

https://mumbainews.liv
https://mumbainews.liv

2) Anisha Victor

Anisha Victor is a stunningly beautiful girl who is probably one of the most underrated actresses in Bollywood. Starting out with Viacom Motion Pictures’ horror film The House Next Door in 2017, she proved to the world that she is not just a pretty face.

She held the audience spellbound with her versatility and screen presence, playing a vivacious possessed gal. The House Next Door released in three languages, and met with commercial success. It earned rave reviews for Anisha who is nowadays seen in the Zee5 Originals web series  REJCTX and waiting for more magic in Bollywood.

https://mumbainews.liv
https://mumbainews.liv

3) Alaya F

Alaya Furniturewala, also known as Alaya F is the daughter of Farhan Ebrahim Furniturewala and actress Pooja Bedi. Her maternal grandparents are veteran actor Kabir Bedi and late dancer Protima Bedi.

She made her film debut in 2020 through a leading role in the comedy Jawaani Jaaneman with Saif Ali Khan and earned a lot of critical acclaim. The film was a success at the box-office and bold Alaya is surely an actress to watch out for.

https://mumbainews.liv
https://mumbainews.liv

4) Sharmin Segal

Sharmin Segal made her debut opposite actor Javed Jaffrey’s son Meezaan in the 2019 film Malaal. Despite being the niece of the acclaimed filmmaker Sanjay Leela Bhansali, it is said that she had to go through an extensive audition process before being finalised for the film produced by her uncle.

Her character was in complete contrast from that of the hero in the movie and Sharmin showed great spark and promise for the future. Prior to acting in Malaal, she attended the Lee Strasberg Theatre and Film Institute in New York and also worked as an assistant director in films like Mary Kom and Bajirao Mastani.

https://mumbainews.liv
https://mumbainews.liv

5) Ankita Lokhande

Ankita Lokhande earned fame with her debut award-winning role in Balaji Telefilms’s daily show Pavitra Rishta on Zee TV. She was touted as the one of the highest paid actresses of television industry, until she retired in 2018 to take her plunge into Bollywood.

Making her film debut with the 2019 Kangana Ranaut historical Manikarnika: The Queen of Jhansi, she made a mark. Though her fans and followers felt that her role was too short in the movie and that she could have afforded more scope to showcase her talent.But inspite of the length of the role, Ankita did manage to make an impression. She was also seen in the Tiger Shroff-Shraddha Kapoor film Baaghi 3, but is better known for her appearance in Manikarnika. Currently, Ankita is back in news for being the ex-girlfriend of the late Sushant Singh Rajput.

मागासवर्गीय होने के चलते बोरीवली के डॉक्टर अविनाश सांखे पर अन्याय

0

मागासवर्गीय होने के चलते बोरीवली के डॉक्टर अविनाश सांखे पर अन्याय

बोरीवली के सरकारी अस्पताल Kranti Jyoti Savitribai Phule Hospital के मुख्य संचालक डॉक्टर अविनाश सांखे को पिछड़ीजाति होने के चलते झूठे चौकशी का सहारा लेकर अन्याय किया जा रहा है.

गौरतलब है की कोविद १९ के महामारी के चलते जब अस्पताल में पांच से अधिक संख्या से जमावबन्दी लागु है इसपर डॉक्टर संख्ये ने पुलिस बुलाकर करवाई करवाई थी इसी मुद्दे पर डॉ सांखे पर महीने से जबरन अवकाश लेकर घर पर बैठने की सजा सुनाई है और कहा है की जबतक चौकशी नहीं होती और जबतक चौकशी नहीं होती एक Kranti Jyoti Savitribai Phule Hospital को एक सह संचालक को पदभार देकर डॉ सांखे पर अन्याय किया जा रहा है.
डॉ अविनाश सांखे का आरोप है की ” मेरे खिलाफ अगर आपको कोई करवाई करनी है तो जरूर करे, पर घर पर न बिठाये।

इस महीने के अंत तक मै रिटायर हो सकता हु और मेरा दो साल एक्सटेंशन होने की संभावना है. और यह सब देरी मेरे सेवा एक्सटेंशन को रोकने के लिए किया जा रहा है”. उन्होंने आगे कहा.

गौरतलब है की क्या यह नेक्सेस पूरा सरकारी अस्पतालों में फैला हुआ है. इसकी जांच होनी जरुरी है, ऐसा डॉ अविनाश सांखे मानना है। पुरे अस्पताल Kranti Jyoti Savitribai Phule Hospital में डॉ अविनाश संख्ये के प्रतिमा ऐसे में भ्रष्टाचार से परहेज करनेवाला डॉक्टर की है. डॉ सांखे को हटाने की है साजिश तो नहीं है। ऐसा प्रतीत होता है
क्यों की Kranti Jyoti Savitribai Phule Hospital की New अस्पताल की बिल्डिंग सब तैयार हो गई है. और करोडो की मशीन सामग्री मंगवाई जा सकती है और एक ईमानदार डॉ. के हात अगर कमान सोपि जाती है तो भ्रष्टाचार करनेवाली तथाकथित सीनियर टीम को सफलता नहीं मिल सकती। जिसके चलते भी डॉ संख्ये को हटाने की साजिश की बू आ रही है. स्वस्थ विभाग बृह मुंबई पालिका को इसका सज्ञान लेने की जरुरत है. वर्ना पिछड़ी मागासवर्गीय और एक ईमानदार डॉ अविनाश संख्ये जैसे कर्त्तव्य दक्ष डॉक्टर की सेवा से जनता के दरबार में जाने के आलावा कोई रास्ता नहीं रह जायेगा।